मुख्य मेनू खोलें

Ayush Rajput

सोरठा एक मात्रिक छंद है। यह दोहा का ठीक उलटा होता है। इसके विषम चरणों चरण में 11-11 मात्राएँ और सम चरणों (द्वितीय तथा चतुर्थ) चरण में 13-13 मात्राएँ होती हैं। विषम चरणों के अंत में एक गुरु और एक लघु मात्रा का होना आवश्यक होता है। उदाहरण -

जो सुमिरत सिधि होई, गननायक करिवर बदन।
करहु अनुग्रह सोई, बुद्धि रासि सुभ गुन सदन॥ Ayush Rajput Jaswantpur

सन्दर्भसंपादित करें

शास्त्र सुमत सुमंगल बैन, मन प्रमोद तन उलक भर, ।। शरद सरोरुह नैन , तुलसी भरे स्नेह जल।।