मुख्य मेनू खोलें

स्वर्णमृग रावण के मित्र मारीच के द्वारा माया के द्वारा धरे गये हिरण के रूप को कहा जाता है।