हरि गोविन्द गोविल

भारत के एक अन्वेषक

हरि गोविन्द गोविल (1899 -1956) भारत के एक अन्वेषक थे जिन्होने १९३७ में देवनागरी के लिए एक नए टाइपफेस का आविष्कार किया जिससे देवनागरी टाइप करने वाले उपकरणों एवं मशीनों के विकास का मार्ग प्रशस्त हुआ। गोविन्द, मर्गेन्थलर लिनोटाइप कम्पनी (Mergenthaler Linotype Company) के साथ काम करते थे। [1]

हरि गोविन्द गोविल का जन्म बीकानेर में हुआ था। बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय से शिक्षा लेकर वे १९२० में यूएसए चले गए।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Devanagari Script for the Mergenthaler Linotype". मूल से 8 जनवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 मार्च 2020.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें