हर्निया सीवन (हर्नियोप्लास्टी, हर्निया सुधार), हर्निया को ठीक करने की शल्य प्रक्रिया है। हर्निया आंतरिक अंगों या ऊतकों में आए उभार को कहा जाता है, जो मांसपेशीय दीवार में एक असामान्य छिद्र के माध्यम से बाहर की ओर निकला हुआ होता है। हर्निया पेट, कमर और पूर्व में की गई सर्जरी की साइट पर उत्पन्न हो सकता है।

ऐसा ऑपरेशन है, जिसमें हर्निया थैली को वंक्षण नलिका में बिना कोई सुधार करके निकाला जाता है, जिसे "हर्नियोटोमी" के रूप में वर्णित किया जाता है।

जब हर्नियोटोमी को गैस से झाल लगाना स्वयं उत्पादक (मरीज की अपनी ही ऊतक) या विविध (जैसे इस्पात या प्रोलिन जाल) सामग्री वाले पश्च वंक्षण नलिका की दीवार के प्रबलित सुधार के साथ संयुक्त किया जाता है, तब इसे हर्निया सीवन के विपरीत हर्नियोप्लास्टी कहा जाता है, जिसमें प्रबलीकरण के लिए किसी स्वंय उत्पादक या विविध सामग्री का उपयोग नहीं किया जाता है।

तकनीकसंपादित करें

 
वंक्षण हर्निया आपरेशन के बाद कमर में सर्जिकल चीरा.

अमेरिका में हर्निया सीवन या हर्नियोप्लास्टी को अक्सर चल, या "दैनिक शल्य चिकित्सा" प्रक्रिया द्वारा निष्पादित किया जाता है। हालांकि, अन्य देशों में इसके लिए अस्पताल में 2-3 दिन के लिए भर्ती होना सामान्य बात है। संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रति वर्ष लगभग 700,000 लोगों का उपचार किया जाता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

इन तकनीकों को चार समूहों में विभक्त किया जा सकता है।[1]

समूह 1 और 2: सार्वजनिक "तनाव" सुधारसंपादित करें

हर्निया के सुधार की एक व्यावहारिक तकनीक सबसे पहले 1880 में बासिनी द्वारा वर्णित की गई थी;[2][3] बासिनी की तकनीक "तनाव" सुधार" थी, जिसमें दोष के किनारों को बिना किसी प्रबलीकरण या या सुदृढीकरण के वापस एक साथ सिला जाता था। बासिनी तकनीक में, संयुक्त स्नायु (शरीर से बाहर आ रहे उदर मांसपेशी और आंतरिक तिर्यक मांसपेशी के दूरस्थ सिरों द्वारा निर्मित) को बंध वंक्षण या बंद अनुमानित किया गया है।[4]

हालांकि हर्निया की उच्च पुनरावृत्ति दर, रोग निवृत्ति की ल6बी अवधि और पस्च-शल्य दर्द के कारण तनाव सुधारों को अब देखभाल के लिए मानक नहीं माना जाता है, कुछ ही तनाव सुधारों का आ ज उपयोग किया जाता है; इनमें शॉल्डाइस और कूपर लिगामेंट/मैकवे सुधार शामिल हैं।[5][6]

शॉल्डाइस तकनीक जटिल चार परतों का पुनर्निर्माण है; हालांकि इसमें अपेक्षाकृत पुनरावृत्ति दर बहुत कम आंकी गई है।[7]

समूह 3: सार्वजनिक "तनाव-मुक्त" सुधारसंपादित करें

आजकल किए जाने वाले लगभग सभी सुधार "तनाव मुक्त" होते हैं, जिसमें वंक्षण क्षेत्र को मजबूत बनाने के लिए सिंथेटिक झंझरी का स्थापन शामिल है; कुछ लोकप्रिय तकनीकों में लिचेनस्टेन सुधार (फ्लैट के शीर्ष पर रखा झंझरी पैच दोष)[8], प्लग और पैच (दोष में रखा हुआ और लिचेंस्तेन-प्रकार पैच से आवरित झंझरी प्लग) और प्रोलीन हर्निया प्रणाली (दोष के पीछे रखा गया 2-परत झंझरी उपकरण) शामिल हैं। इस शल्य क्रिया को "हर्नियोप्लास्टी' कहा जाता है। प्रयुक्त झंझरी विशेष रूप से पोलिप्रोपोलीन या पॉलिएस्टर से बनी होती है, यद्यपि कुछ कंपनियां टेफ्लोन झंझरी या आंशिक रूप से अवशोष्य झंझरी बाज़ार में उतारी हैं। शल्य क्रिया सामान्यतया स्थानीय संज्ञाहरण के अंतर्गत की जाती है और रोगी सर्जरी के एक महीने के भीतर अस्पताल से घर चले जाते हैं, अक्सर एस्पिरिन या एसितामिनोफेन के अतिरिक्त कोई अन्य दवा लेने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। श्ल्य क्रिया के तुरंत बाद रोगियों को चलने और चारों ओर घूमने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है और और इसके बाद वे शल्य क्रिया के एक से दो सप्ताहों के भीतर अपनी सामान्य गतिविधियां पुनः शुरू कर सकते हैं। पुनरावृत्ति दर बहुत कम हैं - तनाव सुधार के 10% से अधिक की तुलना में, एक प्रतिशत या उससे कम. जटिलताओं की दरें सामान्यतया कम होती है, लेकिन काफी गंभीर हो सकतते हैं और इसमें जीर्ण दर्द, इस्कीमिक ओर्चिटिस और वृषण अपक्षय शामिल हैं।[9][10]

समूह 4: लेप्रोस्कोपिक सुधारसंपादित करें

हाल के वर्षों में, शल्य चिकित्सा के अन्य क्षेत्रों में, वंक्षण हर्निया की लेप्रोस्कोपिक सुधार एक विकल्प के रूप में उभरा है। "गोद" सुधार (कभी कभी "मुख्य छिद्र" सर्जरी या कम आक्रामक सर्जरी कहा जाता है) भी तनाव से मुक्त हैं, हालांकि इसके विरोध में या इसपर दोष के पीछे पूर्व- पेरिटोनियल स्थान में मेश को रखा गया है। मुक्त पद्धति पर गोद के लाभ में तेज़ पुनरावृत्ति समय और पश्च-शल्य दर्द स्कोर शामिल है।

मुक्त पद्धति की तरह, हर्निया के आकार और संबंधित कारकों के आधार पर लेप्रोस्कोपिक सर्जरी स्थानीय या सामान्य संज्ञाहरण शामिल हो सकता है। गोद आमतौर पर अधिक महंगी है, क्योंकि इसे मुक्त सुधार के बजाय शल्य कक्ष समय की अधिक आवश्यकता होती है, लेकिन अस्पताल में भर्ती होने की छोटी अवधि की आवश्यकता है।

जटिलताओं के तुलनात्मक जोखिम, या सार्वजनिक तनाव मुक्त सुधारों की तुलना में पुनरावृत्ति की तुलनात्मक दर को लेकर निश्चित रूप से कोई आम राय नहीं है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] हालांकि, ज्यादातर गैर आकस्मिक पेट की सर्जरी के तरीके लेप्रोस्कोपिक की ओर बढ़ रहे हैं, क्योंकि छोटे चीरों से कम रक्त बहाव, कम संक्रमण, तेज़ रोग निवृत्ति होती है, अस्पताल में भर्ती होने के समय में कमी और दर्द में कमी आती है।[11]

लेप्रोस्कोपिक सुधार की एक विशेष विधि टोटली एक्स्ट्रापेरिटोनियल (TEP) है। TEp सुधार में कम जटिलताएं हैं और इसमें आवर्तक वंक्षण हर्निया के लिए लिंचेनस्टेन सुधार की तुलना में पश्च-शल्य पीड़ाशून्यता में कम समय लगता है।[12]

तुलनासंपादित करें

लेप्रोस्कोपिक हर्निया सीवन, सार्वजनिक शल्य चिकित्सा के साथ तुलना किए जाने पर
लाभ हानि
  • तेज रोग निवृति[13][14]
  • पहले कुछ दिनों में कम दर्द[14]
  • शल्यचिकित्सा के बाद बहुत कम जटिलताएं[13]
जैसे कि संक्रमण, रक्त बहाव और सेरोमा[14]
  • स्थायी दर्द में कम जोखिम[14]
  • लम्बा ऑपरेटिंग समय[13]
  • प्राथमिक हर्निया की पुनरावृत्ति में वृद्धि[13]

एनआईसीई (NICE)[14] नामक सरकारी समिति ने नामक लेप्रोस्कोपिक और मुक्त सुधार पर डेटा का पुनर्निरिक्षण किया है (2004). उन्होंने निष्कर्ष निकाला है कि लागत में कोई अंतर नहीं है, क्योंकि आपरेशन की लागत में आई वृद्धि की घटती रोग निवृत्ति अवधि द्वारा भरपाई हो जाती है। उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि पुनरावृत्ति की दर समान हैं, लेकिन नए अध्ययनों ने इस पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने पाया कि अधिक तेज़ रोग निवृत्ति के परिणामस्वरूप लेप्रोस्कोपिक सुधार और पहले कुछ दिनों कम दर्द होता है। उन्होंने पाया कि गोद सुधार में शल्य चिकित्सा (सेरोमा) के बाद घाव से संक्रमण का जोखिम कम, कम रक्त बहाव और कम सूजन होती है। वे भी कम पुराने दर्द है, जो कई वर्षों तक स्थायी रहते हैं और 30 में से एक रोगी ही इससे गंभीर रूप से पीड़ित हो सकता है। हाल ही में की गई एक अमेरिकी अध्ययन[15] में पाया गया है कि गोद सुधार के बाद शल्य चिकित्सा के दो वर्षों के भीतर की पुनरावृत्ति 10 % है, जबकि मुक्त शल्य चिकित्सा में यह 4 % ही है। हालांकि, इन दोनों परिणामों को अंतरराष्ट्रीय मानकों द्वारा कम आंका गया है और सुझाया गया है कि सर्जन अनुभवहीन थे, विशेषकर गोद सुधार के संबंध में.

झंझरी सुधार में तनाव सुधारों की तुलना में पुनरावृत्ति या आरंभिक रोग निवृत्ति बहुत कम होती है। झंझरी सुधार जटिलताओं में संक्रमण, झंझरी प्रवास आसंजन गठन, अंतः-उदरावरण अंगो में क्षरण और जीर्ण दर्द शामिल हैं - जो कि संभवतः तंत्रिकाओं, नाड़ियों, या शुक्रवाहिकाओं की जालसाज़ी के कारण होता है।[16] इस प्रकार की जटिलताएं, आमतौर पर फोड़ा, नालव्रण या छोटे आंत्र अवरोध के रूप में प्रस्तुत होने के बाद, प्रारंभिक सुधार करने से वर्षों से सप्ताहों में ठीक हो जाती है।[17][18] हाल ही में, झंझरी के तंतुप्रसु प्रतिक्रिया के परिणामस्वरूप नालव्रण के अवरोध की संभावना को चिंता का कारण बताया गया है।[19][20]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Bax T, Sheppard BC, Crass RA (1999). "Surgical options in the management of groin hernias". Am Fam Physician. 59 (4): 893–906. PMID 10068712. मूल से 6 जून 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 मार्च 2011. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  2. doctor/3213 at Who Named It?
  3. बासिनी ई., न्युवो मेटोडो ऑपरेटिवो पर ला कुरा डेलर्निया इंगुइनले. पडुआ, 1889.
  4. Gordon TL (1945). "Bassini's Operation for Inguinal Hernia". Br Med J. 2 (4414): 181–2. PMC 2059571. डीओआइ:10.1136/bmj.2.4414.181. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  5. Mittelstaedt WE, Rodrigues Júnior AJ, Duprat J, Bevilaqua RG, Birolini D (1999). "[Treatment of inguinal hernias. Is the Bassani's technique current yet? A prospective, randomized trial comparing three operative techniques: Bassini, Shouldice and McVay]". Revista da Associação Médica Brasileira (1992) (पुर्तगाली में). 45 (2): 105–14. PMID 10413912.सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  6. editors, Michael W. Mulholland, Gerard M. Doherty. (2005). Complications in Surgery. Hagerstown, MD: Lippincott Williams & Wilkins. पृ॰ 533. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7817-5316-3.सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link) सीएस1 रखरखाव: फालतू पाठ: authors list (link)
  7. Arlt G, Schumpelick V (2002). "[The Shouldice repair for inguinal hernia—technique and results]". Zentralblatt für Chirurgie (जर्मन में). 127 (7): 565–9. PMID 12122581. डीओआइ:10.1055/s-2002-32844.
  8. Lichtenstein I, Shulman A (1986). "Ambulatory outpatient hernia surgery. Including a new concept, introducing tension-free repair". Int Surg. 71 (1): 1–4. PMID 3721754. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  9. Wantz GE (1993). "Testicular atrophy and chronic residual neuralgia as risks of inguinal hernioplasty". Surg Clin North Am. 73 (3): 571–81. PMID 8497804. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  10. Ridgway PF, Shah J, Darzi AW (2002). "Male genital tract injuries after contemporary inguinal hernia repair". BJU Int. 90 (3): 272–6. PMID 12133064. डीओआइ:10.1046/j.1464-410X.2002.02844.x. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)[मृत कड़ियाँ]
  11. "संग्रहीत प्रति". मूल से 11 जून 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 मार्च 2011.
  12. Kumar S, Nixon SJ, MacIntyre IM (1999). "Laparoscopic or Lichtenstein repair for recurrent inguinal hernia: one unit's experience". J R Coll Surg Edinb. 44 (5): 301–2. PMID 10550952. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  13. Trudie A Goers; Washington University School of Medicine Department of Surgery; Klingensmith, Mary E; Li Ern Chen; Sean C Glasgow (2008). The Washington manual of surgery. Philadelphia: Wolters Kluwer Health/Lippincott Williams & Wilkins. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7817-7447-0.सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  14. "Hernia - laparoscopic surgery (review)". National Institute for Health and Clinical Excellence. 2004. मूल से 4 फ़रवरी 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2007-03-26. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  15. Neumayer L, Giobbie-Hurder A, Jonasson O; एवं अन्य (2004). "Open mesh versus laparoscopic mesh repair of inguinal hernia". N Engl J Med. 350 (18): 1819–27. PMID 15107485. डीओआइ:10.1056/NEJMoa040093. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); Explicit use of et al. in: |author= (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  16. Crespi G, Giannetta E, Mariani F, Floris F, Pretolesi F, Marino P (2004). "Imaging of early postoperative complications after polypropylene mesh repair of inguinal hernia". Radiol Med. 108 (1–2): 107–15. PMID 15269694. मूल से 16 दिसंबर 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 मार्च 2011.सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  17. Parra JA, Revuelta S, Gallego T, Bueno J, Berrio JI, Fariñas MC (2004). "Prosthetic mesh used for inguinal and ventral hernia repair: normal appearance and complications in ultrasound and CT". Br J Radiol. 77 (915): 261–5. PMID 15020373. डीओआइ:10.1259/bjr/63333975. मूल से 3 मार्च 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 मार्च 2011. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  18. Aguirre DA, Santosa AC, Casola G, Sirlin CB (2005). "Abdominal wall hernias: imaging features, complications, and diagnostic pitfalls at multi-detector row CT". Radiographics. 25 (6): 1501–20. PMID 16284131. डीओआइ:10.1148/rg.256055018. मूल से 4 जून 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 मार्च 2011.सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  19. Shin D, Lipshultz LI, Goldstein M; एवं अन्य (2005). "Herniorrhaphy with polypropylene mesh causing inguinal vasal obstruction: a preventable cause of obstructive azoospermia". Ann. Surg. 241 (4): 553–8. PMC 1357057. PMID 15798455. डीओआइ:10.1097/01.sla.0000157318.13975.2a. मूल से 7 जून 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 मार्च 2011. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); Explicit use of et al. in: |author= (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  20. Weyhe D, Belyaev O, Müller C; एवं अन्य (2007). "Improving outcomes in hernia repair by the use of light meshes—a comparison of different implant constructions based on a critical appraisal of the literature". World J Surg. 31 (1): 234–44. PMID 17180568. डीओआइ:10.1007/s00268-006-0123-4. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); Explicit use of et al. in: |author= (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)[मृत कड़ियाँ]

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें