मुख्य मेनू खोलें

हृदयेश्वर हिन्दी नवगीत के स्थापित हस्ताक्षर हैं। इनका जन्म : 10 जनवरी 1946 को पूर्वी चम्पारन के ग्राम ऊँचीभटिया में हुआ। इनकी अनेकों प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित हुयी हैं। अनेक साहित्यिक पत्रों के सम्पादन में इन्होने सहयोग किया है। ‘आँगन के ईच-बीच’, ‘बस्ते में भूगोल’ व ‘धाह देती धूप’ (गीत संग्रह) तथा ‘मुंडेर पर सूरज’ (काव्य संग्रह)[1] इनकी प्रकाशित कृतियाँ है। इन्हें बिहार सरकार के प्रतिष्ठित राजभाषा सम्मान (2002) व रामइकबाल सिंह ‘राकेश’ स्मृति समिति, मुजफ्फरपुर (बिहार) के ‘गंध ज्वार सम्मान’ सहित के साथ-साथ कई स्तरों पर सम्मानित किया गया है।[2]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. नवगीत का मूल्यांकन कुछ महत्त्वपूर्ण कृतियाँ
  2. उर्विजा (अनियतकालिक पत्रिका), सीतामढ़ी, समकालीन नेपाली साहित्य पर केन्द्रित अंक, संपादक : रवीन्द्र प्रभात, पृष्ठ 95

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें