11 साल की बंगाली लड़की फूलमनि का आज से लगभग 120 साल पहले उसके पति ने बलात्कार (जबरन सेक्स) किया, जिससे उसकी मौत हो गई| अंग्रेजों ने इसके बाद एज ऑफ कंसेंट एक्ट 1891 लाया, जिसमें लड़की के साथ सहमति से सेक्स

करने की न्यूनतम उम्र 10 साल से बढ़ाकर 12 साल करने की व्यवस्था की गई। "लोकमान्य" तिलक समेत क्रांतिकारी ने इसका विरोध इस आधार पर किया था कि यह हिंदू धर्म परंपरा के खिलाफ है क्योंकि शादी तो रजस्वला होने से पहले होनी चाहिए।