पत्रकार इमरान अंसारी टिकापुर।

कहते है की किसी आदमी को आगे ले जाने वाली एक औरत का हाथ होता है । यह बता जिसने भी कहा है बिलकुल ठीक ही कहा है । क्युकी आज से कुछ सालो पहले संपादक इमरान अंसारी को कोई नही जानता था । यहां तक कि उनके रिश्तेदारों ने भी ताना मारना सुरु कर दिया था की,तुम इतने बड़े हो गए हो क्या कर रहे हों, की बार तो इमरान को कई झूठे बातों से भी फसाया गया था उनके रिश्तेदारों द्वारा मगर इमरान ने हिम्मत नही हारी और निकल पड़ा अकेले अपनी जिंदगी को आगे बढ़ाने के लिए और उसकी मदद कोई नही करता था । वो जिस काम में हाथ लगाता उसको उस काम से उसको बाहर कर दिया जाता था । एक दिन वो थक हार कर घर बैठा अपने मां से बोलने लगे की अम्मा कुछ काम हाथ नही लगा रहा है क्या करू । तो उनके अम्मी ने कहा की तुम या तो सबसे बड़ा काम कर या सबसे छोटा काम कर छोटा तो तुम कर नही सकते तो बड़ा ही कर तो वो निकल पड़ा कुछ बड़ा करने के लिए और खोल दी भदोही जनपद का वो न्यूज चैनल जो आज पूरे देश में ईमानदारी का मिशाल पेस कर रही है । हा वो बात अलग है की उसको दबाने के लिए बहुत प्रयास किया गया मगर वो हिम्मत नही हारा और आज वो पूरे खानदान और रिश्तेदारों का नाम सहित पूरे देश का नाम ऊंचा कर रहा है । जिसे लोग आज पत्रकार इमरान के नाम से जानते है । आपको बता दे की आज भी इमरान वैसे ही मिलेंगे जैसे पहले रहा करते थे । वैसे ही मलमिलव जैसा न कोई घमंड न कोई घृणा इमरान दिल के बहुत अच्छे है । उन्होंने अब तक हजारों लोगो की मदद कर चुके है । उनको कई बार नागरिकों और ग्रामीणों द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है । अगर आप भी उनसे मिलना चाहते है । तो सुबह 10 बजे के पहले उनके घर गोपीगंज जाकर मिल सकते है । हमने जो भी जानकारी दी सभी उनके सुने हुए वीडियो के जरिए दी अगर आपको और भी कुछ पता है तो जरूर बताएं। धन्यवाद

घटनाएँसंपादित करें

जनवरी-मार्चसंपादित करें

अप्रैल-जूनसंपादित करें

जुलाई-सितंबरसंपादित करें

अक्टूबर-दिसंबरसंपादित करें

अज्ञात तारीख़ की घटनाएँसंपादित करें

जन्मसंपादित करें

जनवरी-मार्चसंपादित करें

अप्रैल-जूनसंपादित करें

जुलाई-सितंबरसंपादित करें

अक्टूबर-दिसंबरसंपादित करें

निधनसंपादित करें

जनवरी-मार्चसंपादित करें

=24== अप्रैल-जून 19.2.1993

जुलाई-सितंबरसंपादित करें

अक्टूबर-दिसंबरसंपादित करें