अपवाह या धरातलीय अपवाह (अंग्रेज़ी: Surface runoff) जल की वह मात्रा है जो पृथ्वी की सतह पर गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव में ढाल का अनुसरण करते हुए जलधाराओं, सरिताओं, नालों और नदियों के रूप में प्रवाहित होता है।[1] किसी नदी बेसिन या किसी भी भौगोलिक क्षेत्र या इकाई का अपवाह उस इकाई में होने वाले वर्षण में से निस्यन्दन, वाष्पीकरण, मृदा-जल-धारण इत्यादि द्वारा होने वाले क्षय को घटा कर निकाला जा सकता है।[2][3] सरिताओं और नदियों का अपवाह उनके बेसिन के आकार पर भी निर्भर करता है।

वर्षा के बाद जल चादर के रूप में धरातलीय अपवाह

अपवाह का मापन और इसके प्रतिरूपों का अध्ययन किसी भौगोलिक क्षेत्र के जल तन्त्र या जल चक्र को समझने के लिये अत्यंत आवश्यक है। इसी लिये जल संसाधनों के क्षेत्रीय अथवा वैश्विक अध्ययन में अपवाह का महत्त्वपूर्ण स्थान होता है।[2]

बहता हुआ जल कई प्रकार के स्थलरूपों का निर्माण भी करता है जिन्हें जलीय स्थलरूप कहते हैं। इनमें प्रमुख हैं वी-आकार की घाटी, जलप्रपात, क्षिप्रिका, बाढ़ मैदान, विसर्प, डेल्टा इत्यादि।[1]

निर्धारित जलमार्गों का अनुसरण करता हुआ बहता जल इनके जाल द्वारा जो तंत्र बनाता है उसे अपवाह तन्त्र कहते हैं।[4] इस अपवाह तंत्र का ज्यामितीय विन्यास यह बताता है कि यह किस प्रकार का अपवाह तंत्र है या इसका अपवाह प्रतिरूप क्या है।[4] किसी क्षेत्र का अपवाह तंत्र उस क्षेत्र की स्थलाकृति और जलवायु पर निर्भर होता है[5]

सन्दर्भ और ग्रन्थसूचीसंपादित करें

  1. सविन्द्र सिंह, भौतिक भूगोल की रूपरेखा, प्रयाग पुस्तक भवन, इलाहाबाद
  2. "Surface runoff -साइंस डेली पर". मूल से 7 जुलाई 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 25 जून 2014.
  3. एच॰ एम॰ रघुनाथ - जलविज्ञान, ch-3
  4. सोनल गुप्ता - भूगोल कोश
  5. कन्हैया लाल अग्रवाल - विन्ध्य क्षेत्र का ऐतिहासिक भूगोल, नदियाँ, पृष्ठ ## विकास प्रकाशन, १९८७

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें