अवक्षेपण (Precipitation) का अर्थ है - किसी ठोस पदार्थ का बनना।[1] किसी द्रव विलयन में रासायनिक अभिक्रिया होने पर यदि कोई ठोस उत्पाद बनता है तो उसे ही 'अवक्षेप' (precipitate) कहते हैं।

रासायनिक अवक्षेपण
उदाहरण

यदि पोटैशियम क्लोराइड के जलीय विलयन में सोडियम नाइट्रेट (AgNO3) का जलीय विलयन मिलाया जाता है तो देखा जाता है कि सफेद रंग के एक ठोस पदार्थ का अवक्षेपण हो रहा है। यह सफेद रंगीय पदार्थ वास्तव में सिल्वर क्लोराइड (KCl) है।

AgNO3(aq) + KCl(aq) → AgCl(s) + KNO3(aq)

अवक्षेपों के रंगसंपादित करें

 
चूना पत्थर के एक टुकड़े पर हरा और लाल-भूरा धब्बा वास्तव में क्रमशः Fe2+ और Fe3+ के ऑक्साइड/हाइड्रॉक्साइड हैं।

बहुत से यौगिक जिनमें धातु आयन होते हैं, एक विशिष्ट रंग का अवक्षेप उत्पन्न करते हैं। नीचे की तालिका में विभिन्न धातुओं के अवक्षेपों के रंग दिखाए गए हैं। लेकिन कभी-कभी ये ऐसे रंग का अवक्षेप भी देते हैं जो सूची में दिए रंग से बिलकुल अलग होता है।

स्वर्ण काला
क्रोमियम गहरा हरा, धुंधला हरा (murky green), नारंगी, बैगनी (purple), पीला, भूरा
कोबाल्ट गुलाबी
कॉपर नीला
लोहा (II) हरा
लोहा(III) लाल-भूरा
मैंगनीज पीला-गुलाबी
निकल हरा
सीसा पीला

अन्य यौगिक प्रायः सफेद रंग के अवक्षेप उत्पन्न करते हैं।

उपयोगसंपादित करें

अवक्षेपण अभिक्रियाओं का उपयोग वर्णक (pigments) बनाने, जल के उपचार के लिए उसमें से लवण निकालने, तथा परम्परागत गुणात्मक अकार्बनिक विश्लेषण में किया जाता है।

अवक्षेपण का उपयोग किसी अभिक्रिया के दौरान अभिक्रिया के उत्पादों को अलग करने के लिए भी किया जाता है। आदर्श रूप में, अभिक्रिया का उत्पाद, अभिक्रिया के विलायक में अघुलनशील (insoluble) होता है। इस कारण जैसे ही इसका निर्माण होता है, वह अवक्षेपित हो जाता है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. ब्रिटेनिक्का. "chemical precipitation". मूल से 21 दिसंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 दिसम्बर 2015.