मुख्य मेनू खोलें

आप की कसम 1974 में बनी हिन्दी भाषा की नाट्य रूमानी फिल्म है। यह जे ओम प्रकाश द्वारा निर्मित है जो उनकी निर्देशक के रूप में पहली फिल्म भी है। फिल्म में राजेश खन्ना, मुमताज़, संजीव कुमार, रहमान, असरानी और ए के हंगल हैं। संगीत आर॰ डी॰ बर्मन द्वारा है, जिन्हें फिल्म के लिए एकमात्र फिल्मफेयर नामांकन मिला। फिल्म सफल रही और बॉक्स ऑफिस पर इसे हिट के रूप में घोषित किया गया, और आलोचकों ने भी इसकी सराहना की। "जय जय शिव शंकर", "जिंदगी के सफर में" और "करवटें बदलते रहें" सहित फिल्म के गीत बहुत लोकप्रिय रहे।

आप की कसम
आप की कसम.jpg
आप की कसम का पोस्टर
निर्देशक जे ओम प्रकाश
निर्माता जे ओम प्रकाश
लेखक रमेश पंत
पटकथा राम केलकर
अभिनेता राजेश खन्ना,
मुमताज़,
संजीव कुमार,
असरानी
संगीतकार आर॰ डी॰ बर्मन
आनंद बख्शी (गीत)
छायाकार वी बाबासाहेब
संपादक प्रताप दवे
प्रदर्शन तिथि(याँ) 17 अप्रैल, 1974
समय सीमा 154 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी

संक्षेपसंपादित करें

अमीर और धनवान सुनीता (मुमताज़) अपने कॉलेज में एक संघर्षशील मध्यम वर्ग के युवा व्यक्ति कमल भटनागर (राजेश खन्ना) से मिलती है, और दोनों एक-दूसरे की ओर आकर्षित होते हैं। कमल के पिता (ए के हंगल) और सुनीता के माता-पिता (दीना पाठक, रहमान) उनके रिश्ते को मंजूरी देते हैं, और जल्द ही दोनों विवाहित हो जाते हैं। जब तक कमल को सुनीता की निष्ठा के बारे में संदेह नहीं होता तब तक जीवन आनंदित होता है। ये संदेह नियंत्रण से बाहर हो जाता है, जिसके परिणामस्वरूप दोनों अलग हो जाते हैं। वह अब भी अपने दिल में एक-दूसरे से प्यार करते हैं, लेकिन अपने जीवन से संदेह को दूर करने में असमर्थ हैं।

मुख्य कलाकारसंपादित करें

दलसंपादित करें

संगीतसंपादित करें

सभी गीत आनंद बख्शी द्वारा लिखित; सारा संगीत आर॰ डी॰ बर्मन द्वारा रचित।

गाने
क्र॰शीर्षकगायनअवधि
1."करवटें बदलते रहे"किशोर कुमार, लता मंगेशकर4:56
2."चोरी चोरी चुपके चुपके"लता मंगेशकर4:44
3."जय जय शिव शंकर"किशोर कुमार, लता मंगेशकर5:38
4."ज़िन्दगी के सफ़र में"किशोर कुमार6:39
5."पास नहीं आना"लता मंगेशकर, किशोर कुमार3:50
6."सुनो कहो कहा सुना"किशोर कुमार, लता मंगेशकर4:20

नामांकन और पुरस्कारसंपादित करें

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1975 आर॰ डी॰ बर्मन फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीतकार पुरस्कार नामित

सन्दर्भसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें