आलू एक सब्जी है। वनस्पति विज्ञान की दृष्टि से यह एक तना है। इसकी उद्गम स्थान दक्षिण अमेरिका का पेरू (संदर्भ) है। यह गेहूं, धान तथा मक्का के बाद सबसे ज्यादा उगाई जाने वाली फसल है। भारत में यह विशेष रूप से उत्तर प्रदेश में उगाया जाता है। यह जमीन के नीचे पैदा होता है। आलू के उत्पादन में चीन और रूस के बाद भारत तीसरे स्थान पर है।

तरह-तरह के आलू
आलू का पौधा
आलू के चोटी के उत्पादक
in 2006
(मिलियन मीट्रिक टन)
 चीनी जनवादी गणराज्य 70
 रूस 39
 भारत 24
 संयुक्त राज्य अमेरिका 20
 यूक्रेन 19
 जर्मनी 10
 पोलैंड 9
 बेल्जियम 8
 नीदरलैंड 7
 फ्रांस 6
पूर्ण विश्व 315
स्रोत:
संयुक्त राष्ट्र खाद्य और कृषि संगठन
(FAO)
[1]
मथुरा-आगरा मार्ग के निकट, भारत में आलू की खेती

इतिहाससंपादित करें

अमेरिकी वैज्ञानिकों ने एक अनुसंधान से यह निष्कर्ष निकाला कि पेरू के किसान आज से लगभग 7000 साल पहले से आलू उगा रहे हैं। सोलहवीं सदी में स्पेन ने अपने दक्षिण अमेरिकी उपनिवेशों से आलू को यूरोप पहुंचाया उसके बाद ब्रिटेन जैसे देशों ने आलू को दुनिया भर में लोकप्रिय बना दिया। आज भी आयरलैंड तथा रूस की अधिकांश जनता आलू पर निर्भर है। भारत में यह सब से लोकप्रिय सब्जी है। इसे सभी प्रकार की सब्जियों के साथ मिलाकर पका सकते है।

निर्मित पकवानसंपादित करें

आलू से अनेक खाद्य सामग्री बनती है जैसे वड़ापाव, चाट, आलू भरी कचौड़ी, चिप्स, पापड़, फ्रेंचफ्राइस, समोसा, टिक्की, चोखा आदि। आलू को अन्य सब्जियों के साथ मिला कर तरह-तरह कि पकवान बनाये जाते हैं।

 
कोल्ड स्टोरेज में संरक्षण हेतु जाती आलू की बोरियो से लदी ट्रालियां

आलू के अनोखे गुणसंपादित करें

वैसे तो आलू भारत में ज़्यादातर लोगों की पसंदीदा सब्जी है लेकिन कई लोग इसे अधिक चर्बी वाला समझकर खाने से परहेज करते हैं। परंतु आलू में कुछ उपयोगी गुण भी हैं। आलू में विटामिन सी, बी कॉम्पलेक्स तथा आयरन , कैल्शियम, मैंगनीज, फास्फोरस तत्त्व होते हैं। इसके अलावा आलू में कई औषधीय गुण होने के साथ सौंदर्यवर्धक गुण भी है जैसे यदि त्वचा का कोई भाग जल जाता है उस पर कच्चा आलू कुचलकर तुरंत लगा देने से आराम मिलता है। [1][2]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. http://religion.bhaskar.com/news/yoga-ooh-these-unique-properties-of-potato-knowing-you-speak-the-same-3749152.html
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 3 मई 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 फ़रवरी 2015.