इउ-त्संग

तिब्बत के तीन पारम्परिक प्रान्तों में से एक

इउ-त्संग (तिब्बती: དབུས་གཙང་, अंग्रेज़ी: Ü-Tsang) या त्संग-इउ तिब्बत के तीन पारम्परिक प्रान्तों में से एक है, जिन्हे तिब्बती भाषा में तिब्बत के तीन 'चोलका' कहा जाता है। अन्य दो प्रान्त खम और अम्दो हैं।[1] इउ-त्संग तिब्बत के केन्द्रीय और पश्चिमी हिस्सों पर विस्तृत है, जिसमें यरलुंग त्संगपो नदी का जलसम्भर क्षेत्र, कैलाश पर्वत का इलाक़ा और चांगथंग पठार का अधिकतर क्षेत्र शामिल है। तिब्बत पर जनवादी गणतंत्र चीन का क़ब्ज़ा होने के बाद उसकी सरकार ने तिब्बत का प्रशासनिक विभाजन कर दिया और इउ-त्संग का भूक्षेत्र अब तिब्बत स्वशासित प्रदेश नामक प्रान्त में सम्मिलित है। ऐतिहासिक रूप से इउ-त्संग तिब्बत के 'इउ' और 'त्संग' नामक दो इलाक़ों के विलय से बना था और यह तिब्बती संस्कृति की केन्द्रीय भूमि माना जाता है। ग्यांत्से और शिगात्से के शहर त्संग क्षेत्र में आते हैं जबकी ल्हासा इउ क्षेत्र में स्थित है।[2]

तिब्बत के तीन पारम्परिक प्रान्त - इउ-त्संग, अम्दो और खम

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. On the Margins of Tibet: Cultural Survival on the Sino-Tibetan Frontier, Ashild Kolas, Monika P Thowsen, pp. 30, University of Washington Press, 2012, ISBN 9780295804101, ... Tibetans call their country Bod (Ch: Tubo or Tubote) and commonly divide it geographically into the “three regions” (T: chol kha gsum) of Ü-Tsang, Kham (Ch: Kangba), and Amdo ...
  2. Tibet Archived 10 जून 2016 at the वेबैक मशीन., Robert Kelly, John Vincent Bellezza, pp. 143, Lonely Planet, 2008, ISBN 9781741045697, ... The traditional province of Ü is very much the historical, cultural and modern heartland of Tibet and, along with Tsang to the west, forms the power centre of central Tibet ...