वोटर वैरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (VVPAT) का उपयोग भारतीय चुनावों में भारतीय इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों के साथ किया जाता है

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन ("ईवीएम") 1999 के चुनावों से भाग में इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग के कार्यान्वयन के लिए भारतीय जनरल और राज्य चुनावों में इस्तेमाल हो रही है।[1][2] ईवीएम ने भारत में स्थानीय, राज्य और सामान्य (संसदीय) चुनावों में पेपर मतपत्रों का स्थान लिया है। ईवीएम की तम्पायता और सुरक्षा के बारे में पहले दावों का दावा किया गया था जो कि सिद्ध नहीं हुआ है। दिल्ली उच्च न्यायालय, सर्वोच्च न्यायालय के फैसलों और विभिन्न राजनीतिक दलों से मांग के बाद, चुनाव आयोग ने मतदाता सत्यापित पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) प्रणाली के साथ ईवीएम लागू करने का फैसला किया। भारतीय लोकसभा चुनाव 2014 में एक पायलट प्रोजेक्ट के रूप में 543 संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों में से 8 में वोटर वैरिफायबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपीएटी) प्रणाली को पेश किया गया था।

इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों के निर्माता, इलेक्ट्रानिक्स कारपोरेशन आफ इंण्डिया लिमिटेड, हैदराबाद और भारत इलैक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, बेंगलुरु ने कहा है कि ईवीएम पूर्ण विश्वसनीय हैं क्योंकि ईवीएम के लिए प्रोग्रामिंग ईसीआईएल और बीईएल में सुरक्षित विनिर्माण सुविधा में की जाती है (जहां इलेक्ट्रॉनिक रूप से संचालन लॉग होता है) और चिप निर्माताओं के साथ नहीं।[3] ईवीएम और वोटर वैरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल में नियंत्रण और बैलेट इकाइयों में एक छेड़छाड़-रोधी तंत्र होता है जिसके द्वारा अवैध रूप से खोले जाने पर वे गैर-क्रियाशील हो जाते हैं। ईवीएम स्टैंडअलोन मशीनें हैं, इनमें रेडियो फ्रीक्वेंसी ट्रांसमिशन डिवाइस की कोई सुविधा नहीं है, बैटरी पैक पर काम करते हैं और इन्हें दोबारा नहीं लगाया जा सकता है। ईवीएम की नियंत्रण इकाई में एक वास्तविक समय की घड़ी होती है जो उस समय हर घटना को सही समय पर लॉग ऑन करती है जिस समय इसे स्विच किया गया था। मशीन में एंटी-टैम्पर तंत्र 100-मिलीसेकंड भिन्नताओं का भी पता लगा सकता है।

तीन प्रकार की इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनें M1, M2 और M3 हैं।[4] सबसे आधुनिक M3 ईवीएम, जो 2013 में इसकी शुरूआत के बाद से उपयोग में हैं, पीएसयू परिसर में ही चिप्स में मशीन कोड लिखने की अनुमति देता है- भारत इलैक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड, बैंगलोर और इलेक्ट्रानिक्स कारपोरेशन आफ इंण्डिया लिमिटेड, हैदराबाद। भारत निर्वाचन आयोग ने ईवीएम ट्रैकिंग सॉफ्टवेयर (ईटीएस) को एक आधुनिक इन्वेंट्री प्रबंधन प्रणाली के रूप में पेश किया, जहां सभी ईवीएमएस / वोटर वैरिफायबल पेपर ऑडिट ट्रेल(वीवीपैट) की पहचान और भौतिक उपस्थिति को वास्तविक समय के आधार पर ट्रैक किया जाता है। एम 3 ईवीएम में प्रत्येक मशीन में डिजिटल सत्यापन प्रणाली कोडित है जो इसकी दो घटक इकाइयों के बीच संपर्क स्थापित करने के लिए आवश्यक है। यह सुनिश्चित करने के लिए सील की कई परतें हैं कि यह छेड़छाड़-प्रूफ है। भारतीय ईवीएम गैर-नेटवर्क मशीन हैं।[5][6]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "How to make EVMs hack-proof, and elections more trustworthy". मूल से 9 दिसंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 दिसंबर 2018.
  2. "It takes a heck of a lot to hack an EVM".
  3. "EVMs foolproof, can't be tampered with, says former ECIL chairman". मूल से 29 मई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 7 मई 2019.
  4. "All Questions About EVMs Are Answered Here". मूल से 28 मई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 मई 2019.
  5. "Election Commission plans to replace all pre-2006 EVMs with advanced M3 machines". मूल से 29 मई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 मई 2019.
  6. "Zero Complaints Came Up After Lok Sabha Polls, Claims Expert Behind EVMs". मूल से 28 मई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 मई 2019.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें