मुख्य मेनू खोलें

ईवान कॉन्स्टेनटिनोविच आईवाज़ोवस्की (रूसी : Ива́н Константи́нович Айвазо́вский, आर्मेनियाई: Հովհաննես Այվազովսկի Hovhannes Ayvazovski'‎);[b] 29 जुलाई 1817 – 2 मई 1900) एक रूसी प्रकृतवादी चित्रकार थे। उन्हें इतिहास के महानतम सामुद्रिक कलाकारों में से एक माना जाता है।[11] बचपन में ईसाई बनने पर इनका नाम Hovhannes Aivazian रखा गया था। इनका जन्म काला सागर के तटीय शहर फिओदोसिया में एक आर्मेनियाई परिवार में हुआ था और ये जीवन भर मुख्यत: अपने मूल प्रांत क्रीमिया में ही रहे।

ईवान आईवाज़ोवस्की
Aivazovsky - Self-portrait 1874.jpg
स्वयं का चित्र, 1874, कैनवस पर तेल से, 74 × 58 cm, उफ्फीज़ी, फ्लोरेंस[1][2]
जन्म Hovhannes Aivazian (baptized)
साँचा:OldStyleDate
फिओदोसिया, तौरिदा, रूसी साम्राज्य (वर्तमान में क्रीमिया, यूक्रेन/रूस के बीच विवादित)[a]
मृत्यु साँचा:OldStyleDate (aged 82)
फिओदोसिया, रूसी साम्राज्य
स्मारक समाधि सेट. सैर्गिस आर्मेनियाई गिरिजाघर, फिओदोसिया
शिक्षा इम्पीरियल अकादमी ऑफ आर्ट्स
प्रसिद्धि कारण चित्रकारी, पेंटिंग
जीवनसाथी जुलिया ग्रेव्स (1848–77)
अन्ना बुर्नाज़ियान (1882–1900)
अंतिम स्थान सेट. सैर्गिस आर्मेनियाई गिरिजाघर, फिओदोसिया
पुरस्कार नीचे देखें
आईवाज़ोवस्की के हस्ताक्षर, 1866

इम्पीरियल अकादमी ऑफ आर्ट्स में अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद ये यूरोप घूमने गये और १८४० में कुछ समय तक इटली में रहे। फ़िर वो रूस वापस आ गये और रूसी नौसेना में आधिकारिक चित्रकार की हैसियत से नौकरी करने लगे। आईज़ोवस्की के तत्कालीन रूसी साम्राज्य के सैन्य व राजनीतिक प्रबुद्ध जनों से अच्छे संबंध थे और वो अक्सर सैन्य सम्मेलनों में शामिल हुआ करते थे। शासक रोमानोव घराना उन्हें बहुत मानता था, उनके कार्यों को प्रायोजित करता था व साम्राज्य में उनका आजीवन बहुत सम्मान रहा। रूस में किसी अत्यंत ही मनोरम व खूबसुरत वस्तु या दृश्य की प्रशंसा करने के लिये एंटोन शेखोव द्वारा आईज़ोवस्की के सम्मान में कहा गया वाक्य यह तो आईज़ोवस्की के चित्रकारी के काबिल है ("worthy of Aivazovsky's brush") अभी भी प्रयोग किया जाता है।[12]

अपने काल के सर्वाधिक प्रसिद्ध रूसी कलाकारों में से एक आईज़ोवस्की रूस के बाहर भी उतने ही प्रचलित थे। संयुक्त राज्य अमेरिका व यूरोप में उनके कई सारे व्यक्तिगत प्रदर्शनियाँ लगीं जो बहुत सराही गयीं। अपने लगभग ६० वर्षों के कार्यकाल में उन्होंने ६००० से ज्यादा चित्र बनाए, [13][14] जिसकी वजह से उन्हें उस काल का सफलतम चित्रकार माना जाता है।[15][4] उनके अधिकतर कार्य समुद्री दृश्य हैं, लेकिन उन्होंने युद्ध के दृश्य, आर्मेनियाई विषय-वस्तु और वर्णनात्मक चित्रांकन भी किए हैं। आईज़ोवस्की के अधिकतर कार्य रूसी, आर्मेनियाई व यूक्रेनी संग्रहालयों में रक्खे हैं।

अनुक्रम

जीवन चरितसंपादित करें

 
स्वयं का रेखाचित्र, 1830-1840[5]

पृष्ठभूमि व शिक्षासंपादित करें

ईवान आईवाज़ोवस्की का जन्म १७ जुलाई (नई शैली में २९ जुलाई) १८१७ को रूसी साम्राज्य के अंतर्गत क्रीमिया के फिओदोसिया शहर में हुआ था।[16] सएंट सार्गिस आर्मेनियाई गिरिजाघर के बापतिज़्म अभिलेखों में आईज़ोवस्की होवहेन्स, गेऑर्ग आईवाज़ियान का बेटा के रूप में सूचीबद्ध किया गया है। (आर्मेनियाई: Գէորգ Այվազեանի որդի Յօհաննեսն‎).[17] इम्पीरियल अकादमी ऑफ आर्ट्स में अपनी शिक्षा के दौरान उन्हें रूसी भाषा में ईवान गाइवाज़ोवस्की (1918 से पहले की वर्तनी के अनुसार Иванъ Гайвазовскій) के नाम से जाना जाता था। [18] इटली में अपने प्रवास के दौरान उन्हें c. 1840 से आईज़ोवस्की के नाम से जाना जाने लगा। [19] १८४४ में उन्होंने एक पत्र पर अपने नाम के इतालवी संस्करण (गिओवानी आईवाज़ोवस्की) में हस्ताक्षर किए हैं।[20]

उनके पिता कोन्स्टैन्टिन, (c. 1765–1840),[21] गैलिसिया के पोलिश क्षेत्र के एक आर्मेनियाई व्यापारी थे। उनके पूर्वज अट्ठारहवीं शताब्दी में तुर्की के अंतर्गत आने वाले आर्मेनिया से प्रवासी के तौर पर यूरोप आ गये थे। तमाम पारिवारिक कलहों के बाद कोन्स्टैन्टिन ने गैलिसिया छोड़कर मोल्दाविया, बाद में बुकोविना और अंतत: शुरुवाती १८०० में फिओदोसिया में स्थायी घर बनाया। [22] उन्हें शुरु में गेओर्ग आइवाज़ियन (हाइवाज़ियन या हाइवाज़ी) के नाम से जाना जाता था। बाद में उन्होंने अपने उपनाम में पोलिश भाषा के प्रत्यय स्की जोड़कर उसे गाईवाज़ोवस्की कर लिया। आईवाज़ोवस्की की माँ रिप्साइम फिओदोसिया की एक आर्मेनियाई थीं। ईवान का एक भाई और तीन बहनें थीं। [22] आईवाज़ोवस्की के भाई, गैब्रियल, एक जानेमाने इतिहासकार और आर्मेनियाई पादरी थे।

 
चांद की रोशनी में फॉर्महाउस और पवन चक्की, 1863

युवा आईवाज़ोवस्की की सेंट स्सर्गिस आर्मेनियाई गिरिजाघर में सीमित शिक्षा हुई।[23] उन्होंने जैकब कोच से चित्रांकन सीखा। फिर वह १८३० में सिमफेरोपोल चले गये।[24] 1833 में, आईवाज़ोवस्की रूस की राजधानी संत पीटर्सबर्ग, इम्पीरियल अकादमी ऑफ़ आर्ट्स में मैक्सिम वोरोबिएव से पढने आये। 1835 में उन्हें रजत पदक से विभूषित किया गया और फ्रांसीसी चित्रकार फिलिप टैनिउर (fr) का सहायक बना दिया गया। [25] सितम्बर 1836 में, आईवाज़ोवस्की की रूस के राष्ट्रीय कवि अलेक्ज़ेंडर पुश्किन से उनके अकादमी की एक यात्रा के दौरान मुलाकात हुई।[26][27] 1837 में, आईवाज़ोवस्की ने एलेक्ज़ेंडर सौएरविड की युद्धकला चित्रांकन की कक्षा में प्रवेश लिया और फ़िनलैंड की खाड़ी में बाल्टिक फ्लीट के अभ्यासों में हिस्सा लिया।[28] In अक्टूबर 1837 में, उन्होंने इम्पीरियल अकादमी ऑफ़ आर्ट्स से समय से दो वर्ष पहले ही स्वर्ण पदक के साथ स्नातक की उपाधि हासिल कर ली।[29][23][15] आईवाज़ोवस्की 1838 में फिओदोसिया लौट गये और दो वर्ष अपने जन्म स्थान क्रीमिया में बिताए।[22][28] 1839 में उन्होंने क्रीमिया के तटों पर होने वाले युद्धाभ्यासों में हिस्सा लिया जहाँ उनकी मुलाकत रूसी एडमिरलों मिखाईल लज़ारेव, पावेल नाखिमोव और व्लादिमिर कोर्निलोव आदि से हुई, जिसने उन्हें रूस के उच्च सैन्य अधिकारियों के करीब ले आ दिया।[16][30]

ख़्याति की ओरसंपादित करें

 
उनके अधिकतर कार्यों में समुद्र की झलक मिलती है।

1851 में रूसी सम्राट निकोलस I के साथ जाते हुए आईवाज़ोवस्की समुद्री यात्राओं में हिस्सा लेने के लिये सेवस्तोपोल पहुंचे। 1853 में फिओदोसिया के पास उनके द्वारा किये गये उत्कृष्ट पुरातात्विक उत्खननों ने उन्हें रूसी भौगोलिक समुदाय (Russian Geographical Society) का पूर्णकालिक सदस्य बनवाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उसी वर्ष रूस और ओट्टोमन साम्राज्य के बीच क्रीमियाई युद्ध शुरु हो गया। सुरक्षा कारणों से उन्हें खार्कीव ले जाया गया। बाद में सुरक्षित माहौल में वो युद्ध का चित्रण करने के लिये वापस सेवस्तापोल के क़िले पहुंचे।[13] जब सेवेस्तोपोल ओट्टॉमन साम्राज्य के आधिपत्य में था तब यहां उनके कार्यों की प्रदर्शनी लगी थी।[13]

1856 और 1857 के मध्य आईवाज़ोवस्की ने पेरिस में काम किया और लीज़न ऑफ़ ऑनर पाने वाले पहले रूसी कलाकार बने। [31] [13] 1857 में, आईवाज़ोवस्की कांस्टेन्टिनोपोल गये और वहां उन्हें ऑर्डर ऑफ़ द मेड्जिडी से सम्मानित किया गया। उसी वर्ष उन्हें मॉस्को कला समिति का मानद सदस्य चुना गया। उन्हें 1859 में यूनानी पुरस्कार ऑर्डर ऑफ़ द रीडीमर और 1865 में रूसी सम्मान ऑर्डर ऑफ़ संत व्लादिमिर से पुरस्कृत किया गया।

आईवाज़ोवस्की ने फिओदोसिया में 1865 में एक कला दीर्घा खोली। उन्हें इम्पीरियल अकादमी ऑफ़ आर्ट्स से पारिश्रमिक भी मिलने लगा था।[28]

 
आईवाज़ोवस्की का एक चित्र, 1870

मृत्युसंपादित करें

आईवाज़ोवस्की की मत्यु 19 अप्रैल (नई शैली में 2 मई) 1900 को फिओदोसिया में हुई।[13] उन्हें सेंट सार्गिस आर्मेनियाई गिरिजाघर में दफनाया गया।[32]मोव्सेज़ खोरेनात्सी की पुस्तक हिस्ट्री ऑफ़ आर्मेनिया से आर्मेनियाई भाषा में उनकी कब्र पर एक वाक्य Մահկանացու ծնեալ անմահ զիւրն յիշատակ եթող (Mahkanatsu tsneal anmah ziurn yishatak yetogh), उद्धरित है:[33] जिसका अर्थ है: "वह अमर जन्मा था, और उसने अपनी एक अमर विरासत छोड़ी है"।[32][34] उनकी मृत्यु के बाद उनकी पत्नी अन्ना ने सामान्यता: एकाकी जीवन जिया और 25 जुलाई 1944 को उनका देहांत हो गया। उन्हें आईवाज़ोवस्की के बगल में दफना दिया गया।[35]

चित्रकार आईवाज़ोवस्कीसंपादित करें

 
द नाइन्थ वेव (1850) में चित्रित आईवाज़ोवस्की का सबसे प्रसिद्ध कार्य है।[36][37][38]

अपने साठ वर्षों के कार्यकाल में आईवाज़ोवस्की ने विभिन्न प्रकार व मूल्यों वाले 6,000 से भी ज्यादा चित्र बनाए।[13][25][14] [39] उनके अधिकतर चित्रों में समुद्री दृश्य देखने को मिलते हैं।[40] उन्होंने कभी कभार ही सूखे भूदृष्य व व्यक्तियों के चित्र बनाए।[39] आईवाज़ोवस्की "ने अपने चित्र कभी भी प्रकृति को देखते हुए नहीं बनाए, हमेशा अपनी याददाश्त के आधार पर ही बनाए और समुद्र से दूर होते हुए बनाए।"[41] "कलाकार के रूप में उनकी याददाश्त बेहद प्रसिद्ध है। जो उन्होंने बहुत कम समय के लिये देखा होता था उसे भी वो बिना रेखांकन किये ही बेहद आसानी से कैनवस पर उतार लेते थे।"[13] उनकी सूर्य और चंद्रमा की रोशनियों का प्रभाव समुद्री लहरों व हिलते व ठहरे पानी पर दिखा पाने की कला बेहद अद्भुत थी जिसने उनके समकालीन चित्रकारों को बेहद अचंभित किया।[42]

प्रदर्शनियाँसंपादित करें

उन्होंने अपने कार्यकाल में पचपन से ज्यादा व्यक्तिगत कला प्रदर्शनियाँ लगवाईं। [43] इनमें सबसे ज्यादा नामवर रोम, नेपल्स, वेनिस (1841–42), पेरिस (1843, 1890), एम्स्टर्डम (1844), मॉस्को (1848, 1851, 1886), सेवेस्तापोल (1854), टिफ़लिस (1868), फ्लोरेंस (1874), सेंट. पीटर्सबर्ग (1875, 1877, 1886, 1891), फ्रैंकफर्ट (1879), स्टुर्टगार्ट (1879), लंदन (1881), बर्लिन (1885, 1890), वॉरसा (1885), कॉन्स्टेनटिनोपोल (1888), न्यूयॉर्क (1893), शिकागो (1893), सैन फ्रांसिस्को (1893) हैं।[28]

 
Stormy Sea in Night रात में तूफानी समुद्र (1849)

कार्यसंपादित करें


आर्मेनियाई विषय वस्तुसंपादित करें

 
आर्मेनियाई लोगों का बाप्तिज़्म (1892)

आईवाज़ोवस्की के शुरुवाती कार्य आर्मेनियाई विषय वस्तुओं पर निर्मित हैं। आईवाज़ोवस्की ने अरारात पर्वत, अरारत के मैदान, और सेवन झील की तस्वीरें बनाई हैं। माना जाता है कि दो चोटियों वाले बाइबिल में वर्णित आरारात पर्वत का चित्र बनाने वाले वो पहले आर्मेनियाई थे।[44][45]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

टिप्पणियाँ
  1. The Crimean peninsula is de jure part of Ukraine as the Autonomous Republic of Crimea, however, it is de facto controlled by Russia as the Republic of Crimea.
  2. वस्तुतः सभी आर्मेनियाई कुछ रूसी[3] और अंग्रेजी सूत्रों ने उन्हें [4] Hovhannes Ayvazovski से संबोधित किया है। (आर्मेनियाई: Հովհաննես Այվազովսկի‎; रूसी : Ован(н)ес Айвазовский Ovan(n)es Aivazovsky')[5][6]शुरु के उनके कुछ चित्रों पर आर्मेनियाई भाषा में हस्ताक्षर हैं।[7] उदाहरण के तौर पर वैली ऑफ़ माउंट अरारात (1882) नामक चित्र पर उनके (Այվազեան) और रूसी (Айвазовскій) दोनों ही हस्ताक्षर हैं। [8] यूक्रेन में जहाँ उन्हें कभी-२ यूक्रेनियाई चित्रकार माना जाता है,[9][10] उनके नाम की वर्तनी है: Іва́н Костянти́нович Айвазо́вський Iván Kostyantýnovych Ay̆vazóvsʹkyy̆
उद्धरण
  1. Pilikian, Khatchatur I. (23 जुलाई 1990). "Turner-आईवाज़ोवस्की: An Auspicious Encounter" (PDF). आईवाज़ोवस्की International Symposium. Theodosia, Crimea. अभिगमन तिथि 21 January 2014.
  2. "И. К. Айвазовский. Автопортрет. 1874 [I. K. Aivazovsky. Self-Portrait. 1874]" (रूसी में). Center of Spiritual Culture, Leading and National Research Samara State Aerospace University. मूल से 19 मार्च 2014 को पुरालेखित.
  3. रूसी राजकीय संग्रहालय, जहाँ उनके अधिकतर कार्य प्रदर्शित हैं, ने सन् 2000 में "Hovhannes Aivazovsky" शीर्षक से एक एल्बम प्रदर्शित किया; देखें "Publications / Catalogues and Albums / 2000/". रूसी राजकीय संग्रहालय. |archive-url= ख़राब फारमेट में है: save command (मदद)
  4. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Lang नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  5. "Иван Айвазовский – великий маринист [Ivan Aivazovsky - great marinist]" (रूसी में). कोमेरसैंट पेपर्स. 30 November 2013. अभिगमन तिथि 4 January 2014.
  6. "1991-2011 - Национальная галерея Армении [1991–2011 National Gallery of Armenia]" (रूसी में). आर्मेनिया की राष्ट्रीय दीर्घा. अभिगमन तिथि 4 January 2014.
  7. Adamian 1958, पृ॰ 89.
  8. हारुतिउनिअन 1965, पृ॰ 93.
  9. Aivazovsky was included in ग्नातिउक, मिखाईल ए.; एवं अन्य (2001). Сто великих украинцев [100 Greatest Ukrainians] (रूसी में). कीव: ओर्फ़ी. OCLC 50599356. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 5-7838-1077-0.; देखें अज़ीज़याँ, सैम्वेल (16 मार्च 2007). "Незнаний Айвазовський [Unknown Aivazovksy]" (यूक्रेनियाई में). म्यूज़ियम यूक्रेन (Музей України) पत्रिका. अभिगमन तिथि 3 January 2014.
  10. "Aivazovsky, Ivan". यूक्रेनी एनसाक्लोपीडिया. 1984. अभिगमन तिथि 16 January 2014.
  11. "Ayvazovski's View of Venice leads Russian art auction at $1.6m". पॉल फ़्रेज़र. 29 November 2012. मूल से 19 मार्च 2014 को पुरालेखित. Ayvazovski (1817–1900) is widely regarded as one of the greatest seascape artists in history, and the work at auction certainly attests to this.
  12. कार्लिन्स्की, साइमन; हेम, माइकल हेनरी (1999). Anton Chekhov's Life and Thought: Selected Letters and Commentary (2 संस्करण). इवैन्स्टोन, इलिनोईस: नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी प्रेस. पपृ॰ 310–311. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8101-1460-7.
  13. Rogachevsky, Alexander. "Ivan आईवाज़ोवस्की (1817–1900)". Tufts University. मूल से 19 मार्च 2014 को पुरालेखित.
  14. सार्क्सियन 1963, पृ॰ 26.
  15. Leek 2012, पृ॰ 178.
  16. Ghazarian 1974, पृष्ठ 350–351
  17. हारुतिउनियन 1965, पृ॰ 89.
  18. पेट्रोव, प्योट्र (1887). Указатель к Сборнику матеріалов для исторіи Императорской С.-Петербургской Академіи художеств за сто лѣт ея существованія [Index to the collection of materials for the history of the Imperial St. Petersburg Academy of Arts for 100 years of its existence] (रूसी में). सेंट. पीटर्सबर्ग: एम. एम. स्तासुलेविच. पृ॰ 51.
  19. हारुतिउनियन 1965, पृ॰ 93.
  20. "AIVAZOVKSY, Ivan (1817–1900). Autograph letter signed ('Giovani Aivazovsky') to Auguste Vecchy, St Petersburg, 28 August 1844, in eccentric Italian". क्रिस्टीज़. अभिगमन तिथि 18 January 2014.
  21. माइकेलियन 1991, पृ॰ 69.
  22. सार्क्सियन 1963, पृ॰ 25.
  23. माइकेलियन 1991, पृ॰ 59.
  24. बॉबकोव, वी. वी. (2010). "Феодосийский Градоначальник Александр Иванович Казначеев: Основные Вехи Административной Деятельности [फिओदोसिया Mayor Alexander Ivanovich Kaznacheyev: Major Milestones In Administrative Activities]" (PDF) (रूसी में). सिमफेरोपोल: Tavrida National V.I. Vernadsky University: 39–40.
  25. "Ayvazovskiy (Gayvazovskiy), Ivan (Oganes) Konstantinovich". The State Tretyakov Gallery. मूल से 13 December 2013 को पुरालेखित.
  26. ब्रिग्स, ए.डी.पी., संपा॰ (1999). Alexander Pushkin: a celebration of Russia's best-loved writer. लंदन: हेज़र प्रकाशन. पृ॰ 219. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-874371-14-8.
  27. "sothebys Russian Art Evening sale" (PDF). सोथेबीज़. 9 जून 2008. अभिगमन तिथि 2 फरवरी 2014.
  28. "Hovhannes आईवाज़ोवस्की". RusArtNet.com The Premier Site for Russian Culture. मूल से 18 December 2013 को पुरालेखित.
  29. Bolton 2010, पृ॰ 140.
  30. Bolton 2010, पृ॰ 141.
  31. Gomtsyan, Natalia (11 September 2015). "Айвазовский и его окружение". Golos Armenii (रूसी में).
  32. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; artrenewal नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  33. "Այվազովսկի Հովհաննես Կոստանդնի [Aivazovsky Hovhannes Konstandni]" (आर्मेनियाई में). आर्मेनिया की राष्ट्रीय दीर्घा. मूल से 14 December 2013 को पुरालेखित.
  34. Minasyan, Artavazd M.; Gevorkyan, Aleksadr V. (2008). How Did I Survive?. Newcastle upon Tyne: Cambridge Scholars Publishing. पृ॰ 56. OCLC 318443997. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-84718-601-0. Aivazovsky, Ivan Konstantionvich (real name: Hovannes Gevorgovich Aivazyan) (1817 – 1900) – grand Russian artist-painter of seascapes, ethnic Armenian. Aside from his artwork, I.A. was also known for his valuable contributions to the developments of the Russian and Armenian cultures of the 19th century. He lived and worked in फिओदोसिया, Crimea. He was buried there according to his will. A sign on his tombstone, written in ancient Armenian, has a quote from the 5th century "History of Armenia" by Moses Khorenatsi says: "Born as a mortal, left the immortal memory of himself."
  35. Obukhovska, Liudmyla (7 August 2012). "To a good genius ... Feodosiia marked the 195th anniversary of Ivan आईवाज़ोवस्की's birth". Den.
  36. "The Ninth Wave". हर्मिटेज़ संग्रहालय. अभिगमन तिथि 1 November 2013.
  37. "Aivazovsky, I. K. The Ninth Wave. 1850". ऑबर्न विश्वविद्यालय. अभिगमन तिथि 10 December 2013. Detail from "The Ninth Wave" "The Ninth Wave," painted in 1850, is Aivazovsky's most famous work and is an archetypal image for the artist.
  38. एमिर्ज़्यानोवा, गुज़ेल (28 जुलाई 2013). Семь знаменитых картин Айвазовского. कॉम्सोमोल्स्क्या प्राव्दा (रूसी में). मूल से 19 March 2014 को पुरालेखित. Бесспорно, популярнейшей картиной мариниста является «Девятый вал» (1850 г.), сейчас это полотно хранится в Русском музее. Пожалуй, в нем сильнее всего передана романтическая натура художника.
  39. "Ivan Constantinovich आईवाज़ोवस्की". The Athenaeum: Interactive Humanities Online. मूल से 15 December 2013 को पुरालेखित.
  40. Leek 2012, पृ॰प॰ 178-180.
  41. Newmarch 1917, पृ॰ 192.
  42. बॉल्टन 2010, पृ॰ 140.
  43. "Ivan Konstantinovich आईवाज़ोवस्की (1817–1900)". Russian Museum. अभिगमन तिथि 10 December 2013.
  44. सार्क्सियन 1963, पृ॰ 28.
  45. Khachatrian "The Sea Poet"

संदर्भग्रंथ सूचीसंपादित करें

और पढेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

आईज़ोवस्की के चित्रों की चित्रमाला (गैलरी)