उत्सव

उत्सव का अर्थ होता है पर्व या त्यौहार।

उत्सव का अर्थ होता है पर्व या त्यौहार.

भारतीय संस्कृति में पर्वों का विशेष स्थान है। यहाँ तक कि इसे त्यौहारों की संस्कृति कहना गलत नहीं होगा। साल भर कोई न कोई पर्व या उत्सव चलता ही रहता है। हर ॠतु में, हर महीने में कम से कम एक प्रमुख त्यौहार अवश्य मनाया जाता है। कुछ उत्सव किसी अंचल में मनाए जाते हैं तो कुछ भारत भर में भले ही नाम अलग-अलग हों।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

(1)तेजाजी का मेला,
(2)कुंभ का मेला, 
(3)गणेश जी का मेला, 
(4) गणगौर का मेला, 
(5) दशहरा का मेला, 
(6) रामनवमी का मेला,

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें