उस्मानिया जनरल अस्पताल

अस्पताल

उस्मानिया जनरल अस्पताल भारत के सबसे पुराने अस्पतालों में से एक है, हैदराबाद में अफ़ज़लगंज में स्थित है। हैदराबाद के अंतिम निज़ाम, मीर उस्मान अली खान ने इसकी स्थापना की थी और उन्ही के नाम पर इसका नाम रखा गया है। यह अस्पताल तेलंगाना सरकार द्वारा चलाया जाता है, और यह राज्य के सबसे बड़े अस्पतालों में से एक है।[1]उस्मानिया मेडिकल कॉलेज, जो उस्मानिया जनरल अस्पताल से जुड़ा हुआ है, की स्थापना 1846 में हुई थी और यह दुनिया के सबसे पुराने चिकित्सा शैक्षिक संस्थानों में से एक है।

उस्मानिया जनरल अस्पताल में १९३० में विशेष आउट-पेशंट सुविधा का उत्घाटन अकबर हैदरी, डॉ० नायडू, राजकुमार आज़म जाह, महारानी राजकुमारी दुरुसेश्वर और किर्शन परशाद करते हुए।

आजादी के बाद भ्रष्टाचारसंपादित करें

दुर्भाग्यवश आजादी के बाद यह अस्पताल भ्रष्ट अधिकारियों का एक प्रमुख उदाहरण बन गया है और पहले स्तर बनाकर नहीं रख सका। [2][3]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "Osmania General Hospital". sehat. मूल से 12 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 सितंबर 2018.
  2. "Osmania General Hospital outpatient ward crumbles". मूल से 12 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 सितम्बर 2018.
  3. "In Osmania Hospital, no treatment unless you pay a bribe first". मूल से 12 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 सितम्बर 2018.