मुख्य मेनू खोलें

हैदराबाद के निज़ाम-उल-मुल्क (उर्दू:نظام - ال - ملک وف حیدرآبا, तेलुगु: నిజాం - ఉల్ - ముల్క్ అఫ్ హైదరాబాద్, मराठी: निझाम-उल-मुल्क ऑफ हैदराबाद, कन्नड़: ನಿಜ್ಯಮ್ - ಉಲ್ - ಮುಲ್ಕ್ ಆಫ್ ಹೈದರಾಬಾದ್), हैदराबाद स्टेट की एक पूर्व राजशाही थी, जिसका विस्तार तीन वर्तमान भारतीय राज्यों आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और महाराष्ट्र में था। निज़ाम-उल-मुल्क जिसे अक्सर संक्षेप में सिर्फ निज़ाम ही कहा जाता है और जिसका अर्थ उर्दू भाषा में क्षेत्र का प्रशासक होता है, हैदराबाद रियासत के स्थानीय संप्रभु शासकों की पदवी को कहा जाता था। निज़ाम 1719 से हैदराबाद रियासत के शासक थे और आसफ़ जाही राजवंश से संबंधित थे।

हैदराबाद के निज़ाम–उल-मुल्क
पूर्व राजशाही
Hyderabad Coat of Arms.jpg
कुलचिह्न
उस्मान अली खान
प्रथम राजा क़मरुद्दीन खान
अंतिम राजा उस्मान अली खान
प्रकार हिज़ एक्ज़ॉल्टेड हाइनेस
आधिकारिक निवास चौमोहल्ला पैलेस
राजशाही की शुरुआत 1720 से
राजशाही का अंत 17 सितम्बर 1948
हैदराबाद डेक्कन का आसफ़िया झंडा। शीर्ष के साथ स्क्रिप्ट अल अज़मतुलिल्लाह का अर्थ है "सभी महानता भगवान के लिए है"। नीचे की स्क्रिप्ट "या उस्मान" पढ़ती है। बीच में लिखा है "निज़ाम-उल-मुल्क आसफ जाह"

इस राजवंश की स्थापना मीर क़मर-उद-दीन सिद्दीकी, ने की थी जो 1713 से 1721 के बीच मुग़ल साम्राज्य के दक्कन क्षेत्र का सूबेदार था। क़मर-उद-दीन सिद्दीकी ने असंतत रूप से 1724 में आसफ जाह के खिताब के तहत हैदराबाद पर शासन किया और 1707 में औरंगजेब की मृत्यु के बाद जब मुगल साम्राज्य कमज़ोर हो गया तो युवा आसफ जाह ने खुद को स्वतंत्र घोषित कर दिया। 1798 से हैदराबाद, ब्रिटिश भारत की रियासतों में से एक था, लेकिन उसने अपने आंतरिक मामलों पर अपना नियंत्रण बनाए रखा था।

सात निजामों ने लगभग दो शताब्दियों यानि 1947 में भारत की स्वतंत्रता तक हैदराबाद पर शासन किया। ज्यूंकि सातवे निज़ाम मीर उस्मान अली ख़ान थे। आसफ जाही शासक साहित्य, कला, वास्तुकला, संस्कृति, जवाहरात संग्रह और उत्तम भोजन के बड़े संरक्षक थे। निजाम ने हैदराबाद पर 17 सितम्बर 1948 तक शासन किया,[1] जब इन्होने भारतीय बलों के समक्ष आत्मसमर्पण किया और इनके द्वारा शासित क्षेत्र को भारतीय संघ में एकीकृत किया गया।[2]

हैदराबादसंपादित करें

भारत द्वारा अपने कब्जे के समय तक, हैदराबाद सभी रियासतों का सबसे बड़ा और सबसे समृद्ध राज्य था। इसमें काफी सजातीय क्षेत्र का शामिल था और इसकी आबादी लगभग 16.34 मिलियन थी (1941 की जनगणना के अनुसार)। इस साम्राज्य में 86,000 वर्ग मील (223,000 वर्ग किमी) का क्षेत्र शामिल था। यह लगभग वर्तमान यूनाइटेड किंगडम के अकार का था। निज़ाम का हैदराबाद साम्राज्य धार्मिक सद्भावना के लिए भी प्रसिद्द था।[3]

हैदराबाद राज्य की अपनी सेना, एयरलाइन, दूरसंचार प्रणाली, रेलवे नेटवर्क, डाक प्रणाली, मुद्रा और रेडियो प्रसारण सेवा थी।[4]

निजाम के नाम से स्थान और चीजेंसंपादित करें

निजाम के नाम पर स्थित स्थानों और चीजों में निज़ामाबाद और निजामाबाद जिला, जो तेलंगाना राज्य में एक शहर और जिला है; जामिया निजामिया- एक विश्वविद्यालय; निजाम कॉलेज; निजाम संग्रहालय; गवर्नमेंट निज़ामिआ जनरल हॉस्पिटल, निजाम सागर, निज़ामस इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसस; निजाम्स के ज्वेल्स; निजाम डायमंड; निज़ाम की गारंटीकृत राज्य रेलवे; निजामिया वेधशाला ;निज़ाम ऑफ़ हैदराबाद नेकलेस; निजाम के आकस्मिक; निज़ाम गेट; निज़ाम पैलेस (कोलकाता); निज़ाम क्लब और एचएमएएस निज़ाम- एक रॉयल ऑस्ट्रेलियाई नौसेना पोत जिसका निर्माण आंशिक रूप से निजाम द्वारा वित्त पोषित किया गया था।

महलसंपादित करें

असफ जाह शानदार निर्माता थे। निजाम के कई महल थे:

See alsoसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "This day, that year: How Hyderabad became a part of the union of India".
  2. "कैसे बना हैदराबाद भारत का हिस्सा!".
  3. "'Nizam of Hyderabad led life simpler than Mahatma Gandhi'".
  4. "Nizam VII cared more for people than himself".