एक-रत्न

एक-रत्न ("एक टावर") ब्ंगाल मे एक म्ंदिर् वास्तुक्ला की शैलि है।

एक-रत्न ("एक मीनार"), मंदिर वास्तुकला की एक शैली है जो बंगाल में विकसित हुई। इस शैली के मन्दिरों के नीचे वाला भाग चार-चाला मंदिरों जैसा ही होता है किन्तु इसकी छत बिल्कुल अलग (चपटी तथा बीच में एक मीनार) होती है।[1] यह रत्न मंदिरों की सरलतम शैली है। पंचरत्न (पाँच मीनारों से युक्त) तथा नवरत्न (नौ मीनारों से युक्त) , एकरत्न की अपेक्षा अधिक जटिल होते हैं।[1]

कालाचंद मंदिर (विष्णुपुर, बाँकुड़ा, पश्चिम बंगाल, भारत)

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Amit Guha, Classification of Terracotta Temples, मूल से 31 जनवरी 2016 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 20 January 2016