कालसुबाई (मराठी: क्युसुबाई योग) पश्चिमी घाट में एक पर्वत है, जो भारत के महाराष्ट्र राज्य में स्थित है। 1646 मीटर (5400 फीट) की ऊँचाई पर स्थित इसका शिखर महाराष्ट्र का सबसे ऊँचा स्थान है

कलसूबाई माता मंदिरसंपादित करें

श्री कलसूबाई माता मंदिर
कलसूआईची शरण
कलसूबाई शिखर की चोटी पर माता कलसूबाई का मंदिर
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताहिन्दू
देवतामाता कलसूबाई
त्यौहारनवरात्रि
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिकलसूबाई शिखर, इंदौर गांव, दिंडोरी तालुका, नाशिक जिला, महाराष्ट्र, भारत
ऊँचाई (अधि.)5427 फीट

कलसूबाई मंदिर महाराष्ट्र मे एक धार्मिक स्थल है यह महाराष्ट्र में पश्चिमी घाट मे स्थित कलसूबाई शिखर की चोटी पर स्थित है। कलसूबाई शिखर का नाम भी देवी कलसूबाई के नाम पर ही पड़ा है। इस मंदिर पर नवरात्र और होली दिवाली के त्योहारों पर मेला भी लगता है।[1][2]

इस मंदिर का निर्माण इंदौर गांव के एक कोली परिवार ने किया था। यह मंदिर एक कन्या के नाप पर बनाया गया था जिसका नाम कलसू कोली था। जिस जगह पर कलसू कोली ने बर्त्तन साफ किए थे उस जगह को थाली मेल बोला जाता है और जहां कूड़ा डारा था उसे कालधारा बोला जाता है।[1]

प्रत्येक मंगलवार को देवी कलसूबाई को पूजा की जाती है आस पास के गांव के लोग पूजा करने आते हैं। पास से गुजरते समय लोग देवी की ढोक लगा कर जाते हैं और त्योहारों पर यहां मेला भी लगता है।[1][2]

कलसू माता को दो जगह पूजा जाता है एक तो कलसूबाई शिखर पर चढ़ते समय बीच रास्ते मे ही देवा का मंदिर है और दूसरा शिखर की चोटी पर जो मुख्य मंदिर है। स्थानिय लोग कलसू माता को अपने कुलदेवी के रूप मे पूजते हैं एवं प्रत्येक घर मे देवी की तसवीर मिलती है।[1]

छायाचित्रसंपादित करें

संदर्भसंपादित करें

  1. Bombay (Presidency) (1883). Gazetteer of the Bombay Presidency (अंग्रेज़ी में). Government central Press.
  2. Hunter, Sir William Wilson (1908). Imperial Gazetteer of India ... (अंग्रेज़ी में). Clarendon Press.