मुख्य मेनू खोलें

कालामी (Kalami, کالامی), जिसे कालाम कोहिस्तानी या गावरी (Gawri, گاوری) भी कहते हैं, कोहिस्तानी शाखा की एक दार्दी भाषा है जो पाकिस्तान के ख़ैबर​-पख़्तूनख़्वा प्रान्त के कोहिस्तान ज़िले बोली जाती है।[1]

कालामी
बोलने का  स्थान पाकिस्तान
क्षेत्र कोहिस्तान ज़िला
मातृभाषी वक्ता ७०,००० (१९९५)
भाषा परिवार
भाषा कोड
आइएसओ 639-3 gwc
कालामी को गावरी भाषा भी कहते हैं - इस से भिन्न गोवरो भाषा के लिए गोवरो भाषा का पन्ना देखिये

श्रेणीकरणसंपादित करें

कालामी दार्दी भाषाओं की कोहिस्तानी उपपरिवार की एक भाषा है और उस उपपरिवार की अन्य भाषाओं से मिलती-जुलती है, जिसमें तोरवाली, कल्कोती, सिन्धु-कोहिस्तानी, बटेरी, चिलिस्सो, गोवरो, वोटापुरी-कतरगलई और तिराही शामिल हैं।[2]

सुरसंपादित करें

पंजाबी, डोगरी और कई दार्दी भाषाओं की तरह कालामी एक सुरभेदी भाषा है। इसमें पांच सुर प्रयोग होते हैं - ऊँचा, गिरता, रूककर गिरता, नीचा और उठता।[3]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Kalami, from Ethnologue: Languages of the World, fifteenth edition. SIL International.
  2. Tone and song in Kalam Kohistani
  3. The sounds and tones of Kalam Kohistani: with wordlist and texts, Joan L. G. Baart, National Institute of Pakistan Studies, Summer Institute of Linguistics (United Kingdom), 1997, ISBN 978-969-8023-03-4, ... The possible existence of contrastive tones in the Kalami language was already noted by Morgenstierne (1940:210), who observed a distinction between a rising and a falling tone in several monosyllables ...