मुख्य मेनू खोलें

यह भारत की एक प्रमुख नदी घाटी परियोजना हैं।

परियोजना का प्रारम्भसंपादित करें

इस परियोजना का प्रारंभ सन २००० में श्री अटल बिहारी बाजपेयी जी ने नींव का पत्थर रखकर किया था।

नदीसंपादित करें

यह परियोजना सतलुज नदी पर बनाई जा रही है।

स्थानसंपादित करें

इस परियोजना को हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर और मंडी जिलों की सीमा पर बनाया जा रहा है। सतलज नदी बिलासपुर और मंडी जिलों को अलग करती है।

उद्देश्यसंपादित करें

इस परियोजना से हिमाचल प्रदेश, दिल्ली एवं उत्तर प्रदेश लाभान्वित होंगे।

लाभान्वित होने वाले राज्यसंपादित करें

इस परियोजना से उत्पन्न बिजली का १२% हिस्सा हिमाचल प्रदेश को मुफ्त दिया जाएगा एवं १५% हिस्सा उत्पादन मूल्य पर दिया जाएगा|