मुख्य मेनू खोलें
भरत और शत्रुघ्न माता कौसल्या को दिलासा देने आतेे हुये

कौशल्या रामायण की एक प्रमुख पात्र हैं। वे कौशल प्रदेश (छत्तीसगढ़) की राजकुमारी तथा अयोध्या के राजा दशरथ की पत्नी थीं। कौशल्या को राम की माता होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।[1][2]

सन्दर्भसंपादित करें