गणित में क्षेत्र (field) ऐसा समुच्चय होता है जिसमें जोड़, घटाना, गुणा और विभाजन परिभाषित हों और वहीं अर्थ रखें जो वे परिमेय संख्याओं और वास्तविक संख्याओं के लिए रखते हैं। क्षेत्रों का बीजगणित, संख्या सिद्धान्त और गणित की कई शाखाओं में महत्व है। परिमेय संख्याओं का क्षेत्र और वास्तविक संख्याओं का क्षेत्र सबसे अधिक प्रयोग होने वाले क्षेत्र हैं, हालांकि सम्मिश्र संख्याओं का क्षेत्र गणित के अलावा विज्ञानअभियान्त्रिकी में भी प्रयोग होता है।[1][2]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Adamson, I. T. (2007), Introduction to Field Theory, Dover Publications, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-486-46266-0
  2. Ax, James (1968), "The elementary theory of finite fields", Ann. of Math., 2, 88: 239–271, डीओआइ:10.2307/1970573