गजरा फूलों की माला होती हैं जो दक्षिण एशियाई महिलाएँ अपने बालों के पिछले हिस्सों पर बाँधती है। ऐसा उत्सव के अवसरों, शादियों या रोजमर्रा की पारंपरिक पोशाक के हिस्से के दौरान पहना जाता है। वे आम तौर पर चमेली के कई भिन्न प्रकार से बनते हैं लेकिन गुलाब, गुलदाउदी और गुड़हर का भी व्यापक रूप से गजरा में उपयोग किया जाता है।[1] यह दोनों बन और गुथे हुए बालों (चोटी) के साथ पहना जा सकता है।

दुल्हन के लगा हुआ गजरा

दक्षिण एशिया में महिलाएं आमतौर पर पारंपरिक पोशाक के साथ इसे पहनती हैं। यह मुख्य रूप से उत्सव के अवसरों और शादियों के दौरान दक्षिण एशिया में महिलाओं द्वारा कलाई पर भी पहना जाता है। गजरा एक आभूषण है जो पूरी तरह से बाल शैली को सजाने के लिए है और आमतौर पर बालों को सँभाल कर रखने में सहायता नहीं करता है। ये बालों में सुगंध लाने के लिये भी उपयोग किया जाता है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "इन 5 वजहों से हर इंडियन औरत को लगाना चाहिए गजरा". पंजाब केसरी. 12 जुलाई 2018. मूल से 25 अगस्त 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 25 अगस्त 2018.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें