गोपाल हरि देशमुख

महाराष्ट्र से सामाजिक सुधारक

गोपाल हरि देशमुख (१ 18 फरवरी १hm२३) - 9 अक्टूबर 1892) एक भारतीय विचारक, समाज सुधारक और लेखक थे। उन्हें महाराष्ट्र में सामाजिक सुधार आंदोलन का एक महत्वपूर्ण व्यक्ति माना जाता है। उनका मूल उपनाम शिधाये था। 'वतन' (कर संग्रह का अधिकार) के कारण बाद में उनका उपनाम देशमुख कहा गया। [2]

गोपाल हरि देशमुख
जन्म १८ फ़रवरी १८२३
पुणे,[1] पुणे जिला, भारत (वर्तमान समय में महाराष्ट्र में)
मृत्यु 9 अक्टूबर 1892(1892-10-09) (उम्र 65)
Pune, British India (present-day Maharashtra,India)
अन्य नाम लोखितवादी, राव बहादुर
धार्मिक मान्यता हिन्दू धर्म

प्रारंभिक जीवनसंपादित करें

गोपाल हरि देशमुख का जन्म 1823 में महाराष्ट्रीय ब्राह्मणों की उपजाति चितपावन परिवार में हुआ था। उनके पिता तृतीय आंग्ल-मराठा युद्ध के दौरान बाजीराव द्वितीय के सेनापति बापू गोखले के कोषाध्यक्ष थे। देशमुख ने पूना इंग्लिश मीडियम स्कूल से पढ़ाई की। [3]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Garge, S. M., Editor, Bhartiya Samajvigyan Kosh, Vol. III, Page. No. 321, published by Samajvigyan Mandal, Pune
  2. The Golden Book of India: A Genealogical and Biographical Dictionary of the Ruling Princes, Chiefs, Nobles, and Other Personages, Titled Or Decorated of the Indian Empire. Aakar Books. 1893. पृ॰ 150. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788187879541.
  3. Bal Ram Nanda (1977). Gokhale: The Indian Moderates and the British Raj. Princeton University Press. पृ॰ 17. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9781400870493. His[Deshmukh's] family of Chitpawan Brahmans, one of the greatest beneficiaries of the Peshwa regime...