मुख्य मेनू खोलें

गोलकुंडा या गोलकोण्डा दक्षिणी भारत में, हैदराबाद नगर से पाँच मील पश्चिम स्थित एक दुर्ग तथा ध्वस्त नगर है। पूर्वकाल में यह कुतबशाही राज्य में मिलनेवाले हीरे-जवाहरातों के लिये प्रसिद्ध था।

गोलकोंडा

గోల్కొండ

گولکنڈہ
A View of Golconda Fort.jpg
गोलकोंडा क़िला
गोलकोण्डा की तेलंगाना के मानचित्र पर अवस्थिति
गोलकोण्डा
तेलंगाना में अवस्थिति
सामान्य विवरण
राष्ट्र भारत
निर्देशांक 17°23′N 78°24′E / 17.38°N 78.40°E / 17.38; 78.40
निर्माण सम्पन्न 1600s
अबुल हसन गोल्कोंड़े का आख़री सुलतान।

इस दुर्ग का निर्माण वारंगल के राजा ने 14वीं शताब्दी में कराया था। बाद में यह बहमनी राजाओं के हाथ में चला गया और मुहम्मदनगर कहलाने लगा। 1512 ई. में यह कुतबशाही राजाओं के अधिकार में आया और वर्तमान हैदराबाद के शिलान्यास के समय तक उनकी राजधानी रहा। फिर 1687 ई. में इसे औरंगजेब ने जीत लिया। यह ग्रैनाइट की एक पहाड़ी पर बना है जिसमें कुल आठ दरवाजे हैं और पत्थर की तीन मील लंबी मजबूत दीवार से घिरा है। यहाँ के महलों तथा मस्जिदों के खंडहर अपने प्राचीन गौरव गरिमा की कहानी सुनाते हैं। मूसी नदी दुर्ग के दक्षिण में बहती है। दुर्ग से लगभग आधा मील उत्तर कुतबशाही राजाओं के ग्रैनाइट पत्थर के मकबरे हैं जो टूटी फूटी अवस्था में अब भी विद्यमान हैं।


बाहरी कड़ियाँसंपादित करें