सुन्नी मुस्लिम इस्लाम के सबसे बड़े सम्प्रदाय सुन्नी इस्लाम को मानने वाले मुस्लिम हैं। सुन्नी इस्लाम को अहले सुन्नत व'ल जमाअत (अरबी: أهل السنة والجماعة‎ "(मुहम्म्द के) आदर्श लोग और समुदाय") या संक्षिप्त में अहल अस- सुन्नाह (अरबी: أهل السنة‎) भी कहते हैं। सुन्नी शब्द अरबी के सुन्नाह (अरबी: سنة) से आया है, जिसका अर्थ (पैगम्बर मोहम्मद) की बातें और कर्म या उनके आदर्श है। सामान्य अर्थों में सुन्नी -पवित्र ईशसन्देश्टा मुहम्मद स० के निधन के पश्चात जिन लोगों ने मुहम्मद स० द्वारा बताये गये नियमों का पालन किया सुन्नी कहलाऐ।

██ सुन्नी ██ शिया ██ इबादी

इस समय सुन्नी मुस्लिम 90% है तथा ये आंकड़ा 5 गिरोह को मिलाकर बनता हैं।[2]

हऩफी इमाम अबु हनिफा के मुकल्लीद है|

मालिकी इमाम मालिक के मुकल्लीद है|

हंबली इमाम अहमद बिन हंबल के मुकल्लीद है

शाफई इमाम शाफई के मुकल्लीद है|

जबकी सलफ़ी सुन्नी मुहम्मद साहब को अपना इमाम मानते है| हालाँकि सलफ़ी सुन्नी सभी इमामो का सम्मान करते है मगर अपना इमाम सिर्फ मुहम्मद साहब को मानते है|

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Source for distribution is the CIA World Factbook, Shia /Sunni distribution collected from other sources. Shia may be underrepresented in some countries where they do not appear in official statistics.
  2. "कितने पंथों में बंटा है मुस्लिम समाज?". मूल से 2 दिसंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 नवंबर 2017.