गांव अथवा शहर में कोई एक ऐसा स्थान होता है, जो समथल जमिन में पत्थर अथवा ईँट की गोल चिनाई कर के कुछ उंचा बनाया जाता है और उसपर छांव युक्त पेड जैसै पिपल का पेड़, बरगद का पेड़, इत्यादी पेड़ोँ को लगा दिया जाता है जिसे चबूतरा अथवा चौपाल कहाजाता है। गांव के लोग चबूतरे में जमा होकर विभिन्न कार्यक्रम जैसे पार्टी, गोष्ठी, मनोरंजन, छलफल इत्यादी कार्योँ के लिए उपयोग करते हें।