चहलारी घाट पुल

उत्तर प्रदेश का सबसे लम्बा नदी पर बना पुल

चहलारी घाट पुल (अंग्रेज़ी: Chahlari ghat Bridge चहलारी घाट सेतु भी कहा जाता है) उत्तर प्रदेश के पश्चिम में सीतापुर से पूर्व में बहराइच को जोड़ने वाला घाघरा नदी पर बना एक पुल है। इसकी लंबाई 3,260 मीटर (10,700 फीट) है। और यह भारत का दसवां सबसे लंबा नदी पुल और उत्तर प्रदेश में नदी पर सबसे लंबा सड़क पुल है[1]2006 में पीडब्लूडी मंत्री यूपी, शिवपाल सिंह यादव ने इस पुल का शिलान्यास किया, एक पुराने समाजवादी नेता मुख्तार अनीस के वादे को पूरा किया, जिसने इस पुल के लिए रेउसा से लखनऊ तक हजारों लोगों का नेतृत्व किया। [2]पुल 2017 में पूरा हो गया था जब तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और मुख्तार अनीस ने इसका उद्घाटन किया था।[3]

चहलारी घाट पुल
Chahlari Ghat Bridge
Chahlari Ghat Bridge.jpg
चहलारी घाट पुल का एक दृश्य
निर्देशांक27°32′42.7″N 81°20′40.7″E / 27.545194°N 81.344639°E / 27.545194; 81.344639
ले जाता हैसड़क मार्ग की 2 लाईनें और हर तरफ पैदल यात्री पथ
को पार करती हैघाघरा नदी
स्थानीयबहराइच - सीतापुर
आधिकारिक नामचहलारी घाट सेतु
अन्य नामचहलारी घाट सेतु
किसके नाम परचहलारी गाँव
मालिकउत्तर प्रदेश सरकार
रखरखावउत्तर प्रदेश राज्य ब्रिज कार्पोरेशन लिमिटेड
Next upstream2006
विशेषता
सामग्रीकंक्रीट और स्टील
कुल लंबाई3.26 कि॰मी॰ (10,700 फीट)
चौड़ाई10 मी॰ (33 फीट)
Clearance below265
गली की संख्या2 लाईनें
इतिहास
निर्माण बंद2017
निर्माण लागतपता नहीं
शुरू हो रहा2006
आँकड़े
टोलनहीं (निरस्त)

चहलारी घाट पुल बहराइच और सीतापुर जिले को आपस में जोड़ता है। यह पुल स्टेट हाईवे 30बी पर बहराइच शहर से 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, और इस पुल से सीतापुर शहर की दूरी 70 किमी है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "उत्तर प्रदेश का सबसे लम्बा पुल". patrika.com. मूल से 7 अक्तूबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 जुलाई 2020.
  2. "मुख्तार अनीस पूर्व सांसद सीतापुर के प्रयासों से बना था पुल". livehindustan.com. अभिगमन तिथि 30 जुलाई 2020.
  3. "चहलारी घाट पुल का हुआ उद्घाटन". amarujala.com. मूल से 12 फ़रवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 फरवरी 2017.