मुख्य मेनू खोलें

चेन्नई मेट्रो भारत के महानगर चेन्नई के लिए एक त्वरित यातायात सेवा है। इसके प्रथम चरण में दो लाइने प्रयोग में है एवम् अन्य लाइनों का कार्य निर्माणाधीन है यह पूरी परियोजना पहले चरण के दो गलियारों की लागत १४,६०० करोड़ रुपये है। जो ५०.१ कि॰मी॰ लंबे है २००७ के अनुंआन से ९५९६ करोड लागत आयी थी।[3].

चेन्नई मेट्रो
अवलोकन
स्वामीचेन्नई मेट्रो रेल लिमिटिड लिमिटेड (सी.एम.आर.एल)[1]
स्थानचेन्नई, तमिलनाडु, भारत
प्रकारत्वरित यातायात
लाइनों की संख्या2
स्टेशनों की संख्या32
दैनिक सवारियां6,00000
मुख्यालयपूणामल्ली हाई रोड, कोयमबेडू, चेन्नई 600107
संचालन
संचालन प्रारम्भ29 जून 2015; 4 वर्ष पहले (2015-06-29)
संचालकचेन्नई मेट्रो रेल लिमिटेड
वाहनों की संख्या42
ट्रेन की लम्बाई86.5 मी॰ (284 फीट)
तकनीकी
प्रणाली की लम्बाई35 कि॰मी॰ (22 मील) (परिचालन)[1]
54.1 कि॰मी॰ (33.6 मील)

(फेज I एवं विस्तार) 118.5 कि॰मी॰ (फेज II)[2]

25 कि॰मी॰ (MRTS परिवर्तन)
गेजमानक गेज

चेन्नई मेट्रो के लिए चेन्नई मेट्रो रेल निगम का गठन किया गया है, जो भारत सरकार और तमिलनाडु सरकार के बीच 50-50 प्रतिशत हिस्सेदारी वाली विशेष उद्देश्य कंपनी [एसपीवी] है। परियोजना की विस्तृत रपट दिल्ली मेट्रो रेल निगम ने तैयार की है। मेट्रो परियोजना के तहत अभी दो कारिडार ।है एक कारिडार वाशरमनपेट से हवाई अड्डे तक 18 स्टेशनों वाला और दूसरा चेन्नई सेंट्रल से सेंट थामस माउंट के बीच है चेन्नई मेट्रो रेल परियोजना के प्रस्तावित चरण- II के बारे में कुछ प्रमुख तथ्य हैं: परियोजना के दूसरे चरण में तीन कॉरिडोर होंगे और 104 स्टेशनों को कवर करने वाले 104 किलोमीटर की दूरी पर होगा। गलियारा - माधवराम मिल्क कॉलोनी से सिप कॉट (44.3 किमी) ; सीएमबीटी टू लाइट हाउस (15.7 किमी) ; और माधवराम मिल्क कॉलोनी से शोलिंगनल्लुर (44.6 किमी) पहला गलियारा पाडी, वालसरवक्कम और मेदवक्कम के माध्यम से चलाएगा; दूसरा गलियारा, कोडांबक्कम और लुज़ जैसे क्षेत्रों को छू जाएगा; और तीसरा गलियारा पेराम्बूर, लूज, अदयार और ईसीआर से होगा पहला चरण काफी हद तक ऊंचा हुआ था, जबकि दूसरे चरण में बड़े पैमाने पर केवल कुछ ऊंचा वर्ग ही होंगे। इस परियोजना की अस्थायी लागत 44,000 करोड़ रुपये है। लेकिन, भूमिगत खंड को ऊपर उठने की संभावना है। अधिकारियों के मुताबिक, जबकि उतरी गलियारों को 150 करोड़ रुपए की लागत से 200 करोड़ रुपये प्रति किलोमीटर की लागत है, भूमिगत खंड 500 करोड़ रुपये प्रति किलोमीटर तक खर्च कर सकते हैं। संभावना है कि इस चरण में भविष्य में कुछ मार्ग एक्सटेंशन भी दिखाई देंगे। पहले चरण की तरह गाड़ियों को मानक गेज पर चलाया जाएगा। परियोजना के चरण -1 में दो लाइनें हैं- ब्लू लाइन और ग्रीन लाइन पहला खंड (ब्लू लाइन) जो जून 2015 में जनता के लिए खोला गया था ऊंचा था और कोयाम्बेडु से अलंदुर तक दौड़ गई थी। इस चरण का दूसरा चरण, लिटिल माउंट से चेन्नई हवाई अड्डे और सेंट थॉमस माउंट स्टेशन तक अलंदुर (ग्रीन लाइन) से आगे बढ़कर कुछ महीनों पहले जनता के लिए खोला गया था। यह चरण, जिसे शुरू में प्रस्तावित किया गया था, को 2019 में पूरा किया जा सकता है। दूसरी तरफ, दिसंबर 2015 में प्रस्तावित और अनुमोदित विमको नगर के लिए ब्लू लाइन का एक अतिरिक्त विस्तार, 2022 तक चालू होगा।ref>चेन्नई में भी दौड़ेगी मेट्रो ट्रेन २९ जनवरी २००९</ref>

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Shivakumar, C (29 June 2015). "It's Your Time to Check Out Chennai Metro Rail". The New Indian Express. अभिगमन तिथि 31 July 2015.
  2. साँचा:Https://timesofindia.indiatimes.com/city/chennai/metrorail-tweaks-line-to-connect-core-chennai-and-western-suburbs/articleshow/67781315.cms
  3. Chennai Metro back on track

इन्हें भी देखेंसंपादित करें