मुख्य मेनू खोलें

कोलकाता मेट्रो (बंगाली: কলকাতা মেট্রো) पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में एक भूमिगत रेल प्रणाली है।[1] इसे मंडलीय रेलवे का स्तर प्रदान किया गया है। यह भारतीय रेल द्वारा संचालित है। १९८४ में आरंभ हुई यह भारत की प्रथम भूमिगत एवं मेट्रो प्रणाली थी।[2] इसके बाद दिल्ली मेट्रो २००२ में आरंभ हुई थी।

कोलकाता मेट्रो रेल
কলকাতা মেট্রো
Kolkata Metro Logo.svg
Kolkata Metro.jpg
जानकारी
क्षेत्र कोलकाता, भारत
यातायात प्रकार त्वरित यातायात
लाइनों की संख्या
स्टेशनों की संख्या २४ (१५ भूमिगत, २ भूमि एवं ७ ऊपर)
प्रतिदिन की सवारियां ५,५०,००० - ६,००,००० यात्री (लगभग)
प्रचालन
प्रचालन आरंभ १९८४
संचालक
http://www.kolmetro.com/
तकनीकी
प्रणाली की लंबाई २७.३९ कि.मी.
पटरी गेज १,६७६ मि.मि. (५ फी. ६ इं.) (ब्रॉड गेज)
KolkataMetroOldCoaches.jpg
KolkataMetro3000siries.JPG

आरंभ में ५ लाइनों की योजाना थी, किंतु बाद में ३ ही चुनीं गईं:-

अनुक्रम

मुख्य फीचर्ससंपादित करें

कुल रूट लंबाई २२.३ कि.मी.
स्टेशन २१ (१५ भूमिगत, १ भूमि एवं ५ ऊपर)
गेज ५’६" (१६७६ मि.मि) ब्रॉड गेज
कोच प्रति ट्रेन
अधिकतम अनुमत गति ५५ किमि./घंटा
औसत गति ३० किमि./घंटा
वोल्टेज ७५० वोल्ट डी.सी
वर्तमान कलेक्षन विधि त्रितीय रेल, ७५० वोल्ट डी.सी
यात्रा समय: दम दम से कबि नजरूल ४१ मिनट (लगभग)
कोच क्षमता २७८ खड़े, ४८ बैठे यात्री
ट्रेन क्षमता २५९० यात्री (लगभग)
ट्रेनों के बीच अंतराल ७ मिनट दफतर समय एवं १०-१५ मिनट अन्य समय
परियोजना की कुल अनुमानित लागत रु.१८२५ करोड़ (लगभग)
पर्यावरण नियंत्रण धुली एवं प्रशीतित वायु से फोर्स्ड वेन्टीलेशन

मार्गसंपादित करें

किरायासंपादित करें

क्षेत्र दूरी (कि.मी) किराया (रु.)
५ तक ४.००
५-१० ६.००
१०-१५ ८.००
१५-२० १०.००
२० एवं अधिक १२.००

कोलकाता मेट्रो रेल स्टेशनों के नाम विभूतियों पर रखे गए हैंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. http://www.jagran.com/west-bengal/kolkata-six-projects-of-kolkata-metro-completed-by2019-16988574.html
  2. "Lifeline at 30, how the wheels turned".
  3. http://topyaps.com/kolkata-metro-amazing-facts