मुख्य मेनू खोलें

ऊर्जा एवं संसाधन संस्थान, जो आमतौर पर टेरी के नाम से जाना जाता है (पूर्व में टाटा ऊर्जा अनुसंधान संस्थान), १९७४ में स्थापित, ऊर्जा, पर्यावरण और टिकाऊ विकास के क्षेत्रों में अनुसंधान गतिविधियों पर केंद्रित नई दिल्ली में आधारित शोध संस्थान है।

ऊर्जा और संसाधन संस्थान - टेरी
TERI India Habitat Center Delhi.jpg
दिल्ली स्थित ऊर्जा एवं संसाधन संस्थान का मुख्यालय

स्थापित१९७४
प्रकार:गैर लाभ शोध संस्थान
अवस्थिति:नई दिल्ली, दिल्ली, भारत
परिसर:इंडिया हैबिटेट सेंटर
जालपृष्ठ:http://www.teriin.org/

परिचयसंपादित करें

टेरी एक स्वतंत्र, लाभ के लिए नहीं, ऊर्जा अनुसंधान संस्थान है जो पर्यावरण और स्थाई विकास पर केंद्रित, प्राकृतिक संसाधनों के कुशल और टिकाऊ उपयोग करने के लिए समर्पित है।

उत्पत्तिसंपादित करें

टेरी का मूल मीठापुर, गुजरात के एक दूरदराज के शहर में निहित है जहां एक टाटा इंजीनियर, दरबारी सेठ, अपने कारखाने मे अलवणीकरण पर ऊर्जा की भारी मात्रा में खर्च के बारे में चिंतित था।[1] उन्होने प्राकृतिक संसाधनों और ऊर्जा की कमी की कमी से निपटने के लिए एक शोध संस्थान बनाने का प्रस्ताव रखा। जेआरडी टाटा, टाटा समूह के अध्यक्ष, ने इस विचार को पसंद किया और प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। टेरी ३.५ करोड रुपये की मामूली रकम के साथ शुरु किया गया। [2] तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के निमंत्रण पर, टेरी ने १९७४ में दिल्ली में टाटा ऊर्जा अनुसंधान संस्थान के रूप में पंजीकृण किया। समय के साथ गतिविधियों का दायरा बढ्ने पर, इसका नाम बदलकर २००३ में ऊर्जा और संसाधन संस्थान कर दिया गया। [3]

अवस्थितिसंपादित करें

टेरी ने मुंबई में बॉम्बे हाउस, टाटा घराने के मुख्यालय में कार्य शुरू किया था। १९८४ में, यह दिल्ली स्थानांतरित हो गया। एक के बाद एक से दूसरे आधार घुमाने के बाद जिसमे इंडिया इंटरनेशनल सेंटर शामिल है, टेरी इंडिया हैबिटेट सेंटर में ले जाया गया। आज टेरी की भारत और विदेश दोनों में कई केंद्रों के साथ एक वैश्विक उपस्थिति है।

कर्मचारीसंपादित करें

विभिन्न पर्यावरण और ऊर्जा के मुद्दों से संबंधित विषयों से अनुसंधान पेशेवरों के साथ टेरी मे लगभग ९०० कर्मचारी हैं। संस्थान के महानिदेशक राजेंद्र लालकृष्ण पचौरी २००७ के नोबेल पुरस्कार सम्मानित जलवायु परिवर्तन पर अंतर सरकारी पैनल के भी अध्यक्ष थे। [4] टेरी की कार्यकारी निदेशक डॉ॰ लीना श्रीवास्तव को फ्रांस गणराज्य के प्रधान मंत्री द्वारा सम्मानित किया गया और उन्हे २००७ मे ओरडरे नेशनल डु मेरिटे दिया गया। [5]

कार्यकलापसंपादित करें

टेरी एक प्रमुख भारतीय गैर सरकारी (एनजीओ) संगठन, ऊर्जा और पर्यावरण की शैलियों में अनुसंधान और विश्लेषण का आयोजन करने वाला एक वैश्विक संस्थान है, एक विश्वविद्यालय है जो सूक्ष्म जीवों से वैश्विक जलवायु परिवर्तन और बीच में सब कुछ करने के लिए सीमाओं के साथ काम करता है। अपने अस्तित्व के ३० वर्षों में, टेरी ने २६०० से अधिक परियोजनाएं पूरी की है।

टेरी मे कोई २० विभाग है जिसमे सबसे महत्वपूर्ण है:

  • जैव प्रौद्योगिकी और जैव संसाधनों प्रबंधन प्रभाग
  • पृथ्वी विज्ञान और जलवायु परिवर्तन प्रभाग
  • ऊर्जा पर्यावरण प्रौद्योगिकी प्रभाग
  • नीति विश्लेषण प्रभाग
  • जल संसाधन नीति और प्रबंधन प्रभाग
  • सामाजिक परिवर्तन प्रभाग

टेरी विश्वविद्यालयसंपादित करें

टेरी विश्वविद्यालय १९ अगस्त १९९८ को स्थापित किया गया था और एक विश्वविद्यालय के रूप में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) द्वारा १९९९ में मान्यता दी गई। [6][7] १९९८ में टेरी विस्तृत अध्ययन स्कूल के रूप में स्थापित, संस्था को बाद में टेरी विश्वविद्यालय नाम दिया गया था। [8] टेरी विश्वविद्यालय भारत में अपनी तरह का पहला संस्थान है जो स्थायी विकास के लिए पर्यावरण, ऊर्जा और प्राकृतिक विज्ञान के अध्ययन के लिए समर्पित है। [9]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. http://www.tatamail.com/media/reports/inside.aspx?artid=tB0IWx7d9Vw=
  2. http://www.indianngos.com/environment/audio/rkpachauri.asp
  3. http://www.financialexpress.com/news/teri-stays-teri-but-says-tata-to-tata/70815/
  4. Teriin.org (Staff).
  5. http://www.financialexpress.com/news/teri-receives-second-knighthood-honour-from-french-government/402464/
  6. http://www.gdnet.org/middle.php?oid=211&zone=org&action=org&org=4178
  7. http://www.ugc.ac.in/inside/deemed%20universities/terischool.html
  8. http://www.blonnet.com/2006/10/06/stories/2006100603800900.htm
  9. http://www.everythingonline.in/onlinedirectory.php?directory=378

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें