मुख्य मेनू खोलें

टोंक भारतीय राज्य राजस्थान का एक जिला है। जिले का मुख्यालय टोंक है।

टोंक
—  जिला  —
निर्देशांक: (निर्देशांक ढूँढें)
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य राजस्थान
जनसंख्या
घनत्व
14.21लाख (2011 के अनुसार )
क्षेत्रफल 7194. वर्ग कि.मी. कि.मी²
   यह रियासत काल में राजस्थान की एक मात्र मुस्लिम रियासत थी।

टोंक जिले के आसपास कई दर्शनीय स्थल हैं- 1. डिग्गी कल्याण मन्दिर, डिग्गी(मालपुरा)++

  यहां पे भाद्रपद सुक्ल एकादशी को विशाल मेला लगता है।

2.अरबी फारसी शोध संस्थान(टोंक)+++

  इसकी स्थपना 4 दिसंबर 1978 को किया, यहां पर विश्व की सबसे बड़ी "कुरान" बनाई गई है।

3.सुनहरी कोठी(टोंक)++++

      यह टोंक में बड़े कुए के पास नजर बाग में रतन,कांच,व सोने की झाल देकर बनवाई गई। पहले इसे "शीशमहल" के नाम से जाना जाता था।

4. कल्पवृक्ष बालुन्दा (नगर दुर्ग के पास) 5. माण्डव ऋषि की तपोभूमि -

    इसे लघु-पुष्कर भी कहा जाता है। यह नगरदुर्ग के पास स्थित है। यहां पे 15 दिवसीय विशाल पशु मेला कार्तिक पूर्णिमा से लगता है।
6. श्री चामुण्डा देवी का मन्दिर नगर ( मालपुरा)

7. श्री देव नारायण देव धाम जोधपुरिया निवाई बनस्थली

8.""बीसलपुर बांध""## __यह राजस्थान का सबसे बड़ा दूसरे न. का बांध है,जो टोंक जिले की टोड़ारायसिंह तहसील के राजमहल में ,बनास, खारी, डाई,तीन नदियों के संगम पर बना हुआ है यह राजस्थान का एकमात्र कंक्रीट से बना हुआ बांध है तथा यह राजस्थान की सबसे बड़ी जल पेयजल परियजना है।

9. टोरडी सागर बांध##

   इस बांध के सभी गेट खोलने पर एक बूंद भी जल नहीं बचता है।

10.ककोड़ का किला+++

   यह टोंक से 20 कि.मी. दूर NH 116 पर ककोड़ में एक उची पहाड़ी पर बना हुआ है।

11.हाथीभाटा++

   यह ककोड़ के पास 5 कि.मी. दूर गुमानपुरा गाव में विशाल पहाड़ी को काटकर बनाया गया हाथी है,जो पाषाण कालीन निर्मित बताया गया है।

12. चोराशी

  यह टोंक जिले के पश्चिमी भाग  जयपुर के दक्षिणी पश्चिमी भाग में बोली जाती है।

13.केंद्रीय भेड़ व उन अनुसंधान केंद्र++

  यह टोंक कि मालपुरा तहसील के अविकाकनगर में 4000एकड़ ज़मीन पर बना हुआ है!

14. रेड+++

  यह जगह टोंक में निवाई के पास स्थित है, इसे "प्राचीन भारत का टाटानगर" के नाम से जाना जाता है, यहां पे से आज तक का एशिया का सबसे बड़ा पंचमार्क सिक्को का भंडार मिला 

15. खातोली ++++

 इस जगह पे सरसो के बचे वेस्ट भाग से विद्युत बनाई जाती है। जिसका नाम "कल्पतरु पावर प्लांट (खातोली)"है,

16.संत पिपा कि गुफाएं (टोड़ारायसिंह)

17. हाड़ी रानी का कुंड(टोड़ारायसिंह)

18. रानीपुरा+++ काले हिरणों के लिए प्रसिद्ध।।

19. मंदिर व गुरूद्वारा धन्ना भगत ( धुआँ कला)

21. मोती सागर बांध , धुआँ कला


क्षेत्रफल - 7194वर्ग कि.मी.

जनसंख्या - (2011 जनगणना)

ग्रामीण- 1103868

नगरीय- 317843

साक्षरता - 62.46 प्रतिशत

एस. टी. डी (STD) कोड - 01432

समुद्र तल से उचाई -लगभग 264.32 मीटर

अक्षांश - 25°41"से 26°34"उत्तरी अक्षांश

देशांतर - 75°70" से 76°19" पूर्वी देशान्तर

औसत वर्षा - 61.36 मि.मी.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें