डायन

भारतीय लोक कथाओं मे चुड़ैल

डायन' एक ऐसा शब्द जिससे सुन के ही मन में एक डर्र पैदा हो जाता है , हाला की इसे अंधविश्वास माना जाता है पर अगर इसके बारे में जाने तो ये कही ना कही सच्चाई नजर जरूर आती हैं । अगर साइकोलॉजी की माने तो एक बाएपोलार डिसऑर्डर होता हैं जिसमें प्रभावित इंसान में दो लोगो की छवि नजर आती है।

डायन का स्वरूपसंपादित करें

डायन महिला और पुरुष दोनों हो सकते है, इसमें सच्चाई भले ही आज साइंस कितना भी विकसित हो जाए पर इस सच्चाई को मानने में हिचकिचाते रहती हैं क्यू की साइंस के पास तकनीक तो है पर संस्कृति नहीं है परंतु एक दिन साइंस को भी ये मानना होगा कि कुछ बुरी शक्तियाँ होती है जो किसी पे भी अपना काबू कर सकती है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें