डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अम्ल

dna
(डी॰एन॰ए॰ से अनुप्रेषित)

डी एन ए जीवित कोशिकाओं के गुणसूत्रों में पाए जाने वाले तंतुनुमा अणु को डी-ऑक्सीराइबोन्यूक्लिक अम्ल या डी एन ए कहते हैं। इसमें अनुवांशिक कूट निबद्ध रहता है। डी एन ए अणु की संरचना घुमावदार सीढ़ी की तरह होती है। [1]

डीएनए के घुमावदार सीढ़ीनुमा संरचना के एक भाग की त्रिविम (3-D) रूप

डी एन ए न्यूक्लियोटाइड्स नामक सरल इकाइयों की दो लंबी श्रृंखलाओं से बना एक बहुलक है। प्रत्येक शृंखला में एक या एक से अधिक फॉस्फेट समूहों से जुड़ा एक नाइट्रोजनी आधार होता है।[2] न्यूक्लियोटाइड्स आनुवंशिक सामग्री के निर्माण खंड हैं और सभी वंशानुगत विशेषताओं को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार हैं। अमीनो एसिड अनुक्रमों के लिए डीएनए कोड में न्यूक्लियोटाइड्स और तीन अलग-अलग प्रकारों से बने होते हैं: एडेनिन, साइटोसिन और गुआनिन।। इन न्यूक्लियोटाइडों से युक्त डिऑक्सीराइबोस नाम का एक शक्कर भी पाया जाता है। इन न्यूक्लियोटाइडों को एक फॉस्फेट की अणु जोड़ती है। न्यूक्लियोटाइडों के सम्बन्ध के अनुसार एक कोशिका के लिए अवश्य प्रोटीनों की निर्माण होता है। अतः डी एन ए हर एक जीवित कोशिका के लिए अनिवार्य है।

डीएनए आमतौर पर क्रोमोसोम के रूप में होता है। एक कोशिका में गुणसूत्रों के सेट अपने जीनोम का निर्माण करता है; मानव जीनोम 46 गुणसूत्रों की व्यवस्था में डीएनए के लगभग 3 अरब आधार जोड़े है। जीन में आनुवंशिक जानकारी के प्रसारण की पूरक आधार बाँधना के माध्यम से हासिल की है। उदाहरण के लिए, एक कोशिका एक जीन में जानकारी का उपयोग करता है जब प्रतिलेखन में, डीएनए अनुक्रम डीएनए और सही आरएनए न्यूक्लियोटाइडों के बीच आकर्षण के माध्यम से एक पूरक शाही सेना अनुक्रम में नकल है। आमतौर पर, यह आरएनए की नकल तो शाही सेना न्यूक्लियोटाइडों के बीच एक ही बातचीत पर निर्भर करता है जो अनुवाद नामक प्रक्रिया में एक मिलान प्रोटीन अनुक्रम बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है। वैकल्पिक भानुमति में एक कोशिका बस एक प्रक्रिया बुलाया डीएनए प्रतिकृति में अपने आनुवंशिक जानकारी कॉपी कर सकते हैं।

डी एन ए की रूपचित्र की खोज अंग्रेजी वैज्ञानिक जेम्स वॉटसन और फ्रान्सिस क्रिक के द्वारा सन 1953 में किया गया था। इस खोज के लिए उन्हें सन 1963 में नोबेल पुरस्कार सम्मानित किया गया।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Watson, J. D.; Crick, F. H. C. (1953). "Molecular Structure of Nucleic Acids: A Structure for Deoxyribose Nucleic Acid". Nature. 171 (4356): 737–738. आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0028-0836. डीओआइ:10.1038/171737a0.
  2. admin (2022-07-27). "How is DNA Important to Life?" (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2022-11-30.

साँचा:अनुवांशिकी