तंत्रसार अभिनवगुप्त की रचना है। ऐसा माना जाता है कि यह कृति अभिनवगुप्त की प्रसिद्ध रचना तन्त्रालोक का साररूप है।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें