मुख्य मेनू खोलें

तुकाराम ओम्बले जो कि भारत के महाराष्ट्र मुम्बई में मुंबई पुलिस कार्यरत एक सहायक पुलिस इंस्पेक्टर थे। जिनकी मृत्यु आतंकवादी से लड़ते हुए २६ नवम्बर को २००८ के मुम्बई हमले में हुई थी , इन्होंने अजमल कसाब को जीवित पकड़ने में सफलता प्राप्त की थी लेकिन उसी वक़्त अजमल कसाब ने उन्हें गोलियों से भून दिया था इस कारण तुकाराम की मौके पर ही मौत हो गई थी। ओम्बले एक इस साहसपूर्ण कार्य के लिए भारत सरकार ने वीरता के लिए अशोक चक्र से नवाजा गया। [1]

तुकाराम गोपाल ओम्बले
Tukaram omble-150x150.jpg
मुंबई पुलिस
मृत्यु २६ नवम्बर २००८
मृत्यु का स्थान मुम्बई
दर्जा सहायक उप इंस्पेक्टर
पुरस्कार Ashoka Chakra ribbon.svg अशोक चक्र

संक्षिप्तसंपादित करें

ओम्बले मुम्बई पुलिस में एक सहायक उप के पद पर एक इंस्पेक्टर था। इन्होंने २००८ के मुंबई हमले में अजमल कसाब को जीवित पकड़ा था लेकिन कसाब ने उनपर गोलियां दाग दी और मौके पर ही मृत्यु हो गई थी।[कृपया उद्धरण जोड़ें]. ओम्बले के इस सरहानीय कार्य के लिए मरणोप्रांत अशोक चक्र से सम्मानित किया गया। [2] The Government of India awarded Tukaram Omble with the Ashoka Chakra, India's highest peacetime gallantry award.[3]

Awards and Honoursसंपादित करें

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

Referencesसंपादित करें

  1. "11 security personnel to get Ashok Chakra". अभिगमन तिथि 2009-01-25.
  2. http://timesofindia.indiatimes.com/city/mumbai/Ombales-courage-must-be-recognised/articleshow/3905959.cms?
  3. http://archive.financialexpress.com/news/ashok-chakra-for-only-two-karkare-and-omble/413391
  4. "Ashok Chakra for only two: Karkare and Omble". Indian Express. 2009-01-21. अभिगमन तिथि 2013-03-07.
  5. "Madhavan Nair, Team Chandrayan named CNN-IBN Indian of the Year - Thaindian News". Thaindian.com. 2009-02-02. अभिगमन तिथि 2013-03-07.