त्रिपुर उपनिषद् एक मध्ययुगीन उपनिषद है। [1] यह एक शाक्त उपनिषद है और ऋग्वेद से संबन्धित है। [2] उपनिषद के रूप में यह वेदान्त साहित्य का भाग है। [3]

त्रिपुर उपनिषद में देवी त्रिपुर सुन्दरी को ब्रह्माण्ड की परम शक्ति कहा गया है। [4]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Mahadevan 1975, पृ॰प॰ 234–239.
  2. Tinoco 1996, पृ॰ 88.
  3. Max Muller, The Upanishads, Part 1, Oxford University Press, page LXXXVI footnote 1, 22, verse 13.4
  4. Mahadevan 1975, पृ॰प॰ 235.

इन्हें भी देखेंसंपादित करें