मुख्य मेनू खोलें

त्सारवादी एकतन्त्र[a] (रूसी : царское самодержавие, प्रतिलिपि. tsarskoye samoderzhaviye) का सन्दर्भ एकतन्त्र (फिर पूर्ण राजतन्त्र) के एक प्रकार से है, जो मॉस्को की ग्रैंड डची के लिए विशिष्ट था व जो बाद में रूस का त्सारराज्य और रूसी साम्राज्य बन गया।[b] इस में, सारी शक्ति और सम्पत्ति त्सार द्वारा नियन्त्रित और (वितरित) होती हैं। इन त्सारों के पास संवैधानिक राजाओं से अधिक शक्ति थी, जो आम तौर पर विधि द्वारा रहते हैं और वैधानिक प्राधिकार द्वारा प्रतिसंतुलित होते हैं; धार्मिक मुद्दों पर भी पश्चमी राजाओं की तुलना में इन त्सारों के पास अधिक प्राधिकार था। रूस में, त्सारवादी एकतन्त्र की शुरुआत रूस के इवान तृतीय (1440−1505) के काल में हुई और १९१७ की रूसी क्रान्ति के बाद उसे ख़त्म कर दिया गया।