थलचिन्ह (landmark) किसी ऐसी प्राकृतिक या कृत्रिम आकृति या वस्तु को कहा जाता है जिसका प्रयोग नौवहन (नैविगेशन) में स्थान बताने या समझने के लिये करा जाए। अक्सर यह कोई दूर से नज़र आने वाला और आसानी से पहचाना जाने वाला वृक्ष, स्थापत्य, पर्वत, झील, मीनार, इत्यादि हो सकता है।[1]

आरम्भिक १८वीं शताब्दी में बने इस चित्र में डच इस्ट इंडिया कंपनी का एक समुद्री जहाज़ टेबल माउंटन के पास, जो अफ़्रीका के दक्षिणी छोर पहचानने के लिये एक प्रसिद्ध थलचिन्ह था

इन्हें भी देखें संपादित करें

सन्दर्भ संपादित करें

  1. Lynch, Kevin. "The image of the city". MIT Press, 1960, p. 48