थुमलैम

(थुमलैमा से अनुप्रेषित)

नोइनू थुमलैम ( मैतै लिपि में : ꯊꯨꯝꯂꯩꯃ) या थुमखोंग लाइरेम्बी[2] प्राचीन कंगलैपाक (प्राचीन मणिपुर) की मेइतेइ लोग की मैतै पौराणिक कथाओं और प्राचीन मैतै धर्म (सनामही धर्म) में नमक और नमक के कुओं की देवी हैं।[1][3][4][5][6] वह फौओइबी (फौलैमा), ङालैमा और इरैमा (इराई लैमा) देवीयों की बहन (या दोस्त) हैं।[1] लोग उससे प्रार्थना करते हैं कि पर्याप्त नमक हो। नमक मानव आहार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।[3]

नोइनू थुमलैम
नमक और नमक के कुओं की देवी[1]
Member of देवी
THUMLEIMA.jpg
पुरातन मैतेई मयेक लिपि में लिखा हुआ थुमलैम"'
संबंध मेइतेइ लोग की मैतै पौराणिक कथाओं और प्राचीन मैतै धर्म (सनामही धर्म)
निवासस्थान नमक के कूप (कुएं)
प्रतीक नमक
माता-पिता
भाई-बहन फौओइबी (फौलैमा), ङालैम और इरैम (इराई लैमा)
शास्त्र फौओइपी वालोल
यूनानी रूप Amphitrite
रोमन रूप Salacia
क्षेत्र प्राचीन कंगलैपाक (प्राचीन मणिपुर)
समुदाय मेइतेइ लोग
त्यौहार लाइ हराओबा

देवी थुमलैम लैमरेल (लैमलेल) की दिव्य अभिव्यक्तियों में से एक है। लैमलेल सर्वोच्च धरती माता हैं। ऐसा कहा जाता है कि जब वह नमक की खान में होती है तो लैमलेल थुमलैम बन जाती है। थुमलैम को देवी इमोइनु के दैवीय अवतारों में से एक माना जाता है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Devi, Lairenlakpam Bino (2002). The Lois of Manipur: Andro, Khurkhul, Phayeng and Sekmai (अंग्रेज़ी में). Mittal Publications. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7099-849-5.
  2. Singh, Moirangthem Kirti (1998). Recent Researches in Oriental Indological Studies: Including Meiteilogy (अंग्रेज़ी में). Parimal Publications.
  3. Leimarel Mingkhei. archive.org (मणिपुरी में). 1970. पृ॰ 19.
  4. Folklore Society (Great Britain). Folklore. Robarts - University of Toronto. London, Folk-lore Society.
  5. Jacobs, Joseph; Nutt, Alfred Trübner; Wright, Arthur Robinson; Crooke, William (1913). Folklore (अंग्रेज़ी में). Folklore Society.
  6. Devi, Dr Yumlembam Gopi. Glimpses of Manipuri Culture (अंग्रेज़ी में). Lulu.com. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-359-72919-7.