धर्मो रक्षति रक्षितः एक लोकप्रिय संस्कृत वाक्यांश है जो महाभारत और मनुस्मृति में मिलता है।[1][2] [3][4][5] इसका अर्थ है कि "धर्म की रक्षा करने पर (रक्षा करने वाले की धर्म ) रक्षा करता है।"[6] दूसरे शब्दों में, "रक्षित धर्म, रक्षक की रक्षा करता है"। [7]

यह वाक्यांश मनुस्मृति के एक पूर्ण श्लोक का भाग है, जो निम्नलिखित है-

धर्म एव हतो हन्ति धर्मो रक्षति रक्षितः
तस्माद्धर्मो न हन्तव्यो मा नो धर्मो हतोऽवधीत् ॥

धर्मो रक्षति रक्षितःका है।

सन्दर्भ संपादित करें

  1. विद्याप्रकाशानंदगिरीस्वामी। गीता मकरंद। भारत: श्री सुका ब्रह्म आश्रम, 1980.
  2. Tripathy, Dr Preeti. Indian Religions: Tradition, History and Culture (अंग्रेज़ी में). Axis Publications. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-93-80376-17-2.
  3. Shaji, U. S. Studies in Hindu Religion (अंग्रेज़ी में). Cyber Tech Publications. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7884-386-5. अभिगमन तिथि 3 January 2021.
  4. "Shloka Shock: A verse from religious text not always just religious". The Financial Express. 31 January 2019. अभिगमन तिथि 3 January 2021.
  5. Runzo, Joseph; Martin, Nancy M.; Sharma, Arvind. Human Rights and Responsibilities in the World Religions (अंग्रेज़ी में). Oneworld Publications. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-85168-309-3. अभिगमन तिथि 3 January 2021.
  6. "Manusmriti Verse 8.15". wisdomlib.org. 9 December 2016. अभिगमन तिथि 9 December 2020.
  7. धर्मो रक्षति रक्षितः' : 'रक्षित धर्म रक्षक की रक्षा करता है’।