नंदिता दास

भारतीय अभिनेत्री और फिल्म निर्देशक
(नन्दिता दास से अनुप्रेषित)

नंदिता दास (जन्म: ७ नवम्बर १९६९) एक भारतीय फिल्म कलाकार और निर्देशक हैं। उन्होंने आजतक 10 विभिन्न् भाषाओं की तकरीबन 30 फिल्मों में काम किया है। एक फिल्म कलाकार के रूप में उन्हें फायर(1996), अर्थ(1998), बवंडर(2000), कन्नथिल मुथामित्तल(2002), अझागि और बिफोर द रेन्स(2007) में महत्वपूर्ण भूमिकाओं और शानदार अभिनय के लिए जाना जाता है। एक निर्देशक के रूप में 'फ़िराक़' उनकी पहली फिल्म हैं जिसका प्रीमियर साल 2008 में टोरंटो फिल्म फेस्टिवल में हुआ। इस फिल्म को तकरीबहन 50 फिल्म समारोहों में प्रदर्शित किया गया जिसे 20 पुस्कार हासिल हुए। उन्हें कान्स फिल्म समारोह में साल 2005 और 2013 में ज्यूरी के रूप में मनोनित किया गया। कला में उल्लेखनीय योगदान के लिए नंदिता दास को को फ्रांस सरकार की ओर से 'ऑर्ड्रे देस आर्ट्स एत देस लेटर्स' से सम्मानित किया गया है।[1]

नंदिता दास
जन्म 7 नवम्बर 1969 (1969-11-07) (आयु 54)
नई दिल्ली, भारत
पेशा अभिनेत्री, फिल्म निर्देशक
कार्यकाल १९८९, १९९६-वर्तमान
जीवनसाथी सौम्या सेन (२००२-२००९)
सुबोध मस्कारा (२०१०-वर्तमान)
बच्चे विहान

जीवन परिचय संपादित करें

नंदिता दास का जन्म 7 नवंबर 1969 को हुआ था। उनके पिता जतीन दास एक प्रसिद्ध कलाकार और उनकी मां एक लेखिका हैं। नंदिता दास के पिता ओडिया हैं जबकि उनकी माता गुजराती हैं। उनका एक छोटा भाई भी है जो क्रियेटिव डिजाइनर हैं। हालांकि कि उनका जन्म मुंबई में हुआ लेकिन परवरिश दिल्ली में हुई,जहां सरदार पटेल विद्यालय में उनकी शुरुआती शिक्षा-दीक्षा हुई। बाद में दिल्ली के मिरांडा हाउस से उन्होंने स्नातक की डिग्री हासिल की।

पेशेवर जीवन संपादित करें

अभिनय संपादित करें

नंदिता ने जन नाट्य मंच से अपने अभिनय करियर की शुरुआत की। उन्होंने आजतक 10 विभिन्न् भाषाओं की तकरीबन 30 फिल्मों में काम किया है। नंदिता ने मृणाल सेन, अदूर गोपालकृष्णन, श्याम बेनेगल, दीपा मेहता और मणिरत्नम की फिल्मों में काम किया है।

निर्देशन संपादित करें

साल 2008 में नंदिता ने बतौर निर्देशक अपनी पहली फिल्म 'फिराक' का निर्माण पूर्ण किया। इस फिल्म का कहानी साल 2002 में हुए गुजरात दंगो की विभिन्न घटनाओं पर आधारित है। इस फिल्म में नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी, रघुवीर यादव, नसीरुद्दीन शाह, परेश रावल, दीप्ति नवल, संजय सूरी और टिस्का चोपड़ा ने काम किया। नंदिता ने 2018 में मंटो फिल्म निर्देशित की।

व्यक्तिगत जीवन संपादित करें

2002 में, दास ने सौम्या सेन से शादी की इस जोड़े ने लीपफ्रॉग की शुरुआत की, जो एक मीडिया संगठन है जो सामाजिक रूप से जागरूक विज्ञापन फिल्में बनाने के लिए तैयार है। इस जोड़े का 2007 में तलाक हो गया।

कुछ महीनों तक मुंबई के उद्योगपति सुबोध मस्करा के साथ डेटिंग करने के बाद, उन्होंने 2 जनवरी 2010 को उनसे शादी कर ली और मुंबई चली गईं।

नंदिता दास नास्तिक हैं . उनका दावा है कि उनका कोई धार्मिक जुड़ाव नहीं है - "अगर मैं किसी चीज़ के साथ जुड़ती तो वह शायद बौद्ध धर्म होता ," उन्होंने कहा।

पुरस्कार संपादित करें

कला में उल्लेखनीय योगदान के लिए नंदिता दास को को फ्रांस सरकार की ओर से 'ऑर्ड्रे देस आर्ट्स एत देस लेटर्स' से सम्मानित किया गया है।[1]

सन्दर्भ संपादित करें

  1. "MUMBAI: Actress Nandita Das' first directorial venture Firaaq". indiantelevision.com. मूल से 3 अक्तूबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2017-07-20.