नेशनल स्टॉक एक्सचेंज

NSE Logo.gif

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज भारत का सबसे बड़ा और तकनीकी रूप से अग्रणी स्टॉक एक्सचेंज है। यह मुंबई में स्थित है। इसकी स्थापना 1992 में हुई थी। कारोबार के लिहाज से यह विश्व का तीसरा सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। इसके वीसैट (V-SAT) टर्मिनल भारत के 320 शहरों तक फैले हुए हैं। एनएसई देश में एक आधुनिक और पूरी तरह से स्वचालित स्क्रीन-बेस्ड इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम प्रदान करने वाला पहला एक्सचेंज था। एनएसई की इंडेक्स- निफ्टी 50 (नेशनल इंडेक्स फिफ्टी) का उपयोग भारतीय पूंजी बाजारों के बैरोमीटर के रूप में भारत और दुनिया भर के निवेशकों द्वारा बड़े पैमाने पर किया जाता है। 1992 में शेयर को कागजी तरीके से ख़रीदा बेचा जाता था और इसमें लगभग 5 से 6 महीने लग जाते थे. यही कारण था जिसकी बजह से ट्रेडिंग करना बहुत कठिन था और कम था. NSE का एक ही कार्य है अधिक से अधिक लोगों और शहरों में ट्रेडिंग पहुचाना था. जब से NSE आई थी तब से ट्रेडर्स और ब्रोकर्स दोनों की अधिक तेजी से संख्या बड़ी है क्योकि अब सारा कुछ digital तरीके से होने लगा है. इस समय लोग अच्छा मुनाफा कमा रह है. nse क्या है पूरी जानकारी..

NSE के फायदे क्या है-संपादित करें

·        ये NSE पूर्ण रूप से डिजिटल साधन है.

·        SEBI के आने के बाद आपको बेहतरीन सुरक्षा मिलती है और धोका-धडी से भी बचाता है.

·        NSE का benchmark Nifty50 ट्रेडिंग करने को मिलती है.

·        NSE की ग्लोबल रैंक विश्व में 11वें नंबर पर है.

·        NSE का कारोबार 3.2 ट्रिलियन यूएस डॉलर का है

यह भी देखेसंपादित करें

बहारी कडियाँसंपादित करें