[1]बिहार की राजधानी पटना का पुराना नाम पाटलिपुत्र है।[2] पवित्र गंगा नदी के दक्षिणी तट पर बसे इस शहर को लगभग 2000 वर्ष पूर्व पाटलिपुत्र के नाम से जाना जाता था। इसी नाम से अब पटना में एक रेलवे स्टेशन भी है।[1] पाटलीपुत्र अथवा पाटलिपुत्र प्राचीन समय से ही भारत के प्रमुख नगरों में गिना जाता था। पाटलीपुत्र वर्तमान पटना का ही नाम था। इतिहास के अनुसार, सम्राट अजातशत्रु के उत्तराधिकारी उदयिन ने अपनी राजधानी को राजगृह से पाटलिपुत्र स्थानांतरित किया और बाद में चन्द्रगुप्त मौर्य ने यहां साम्राज्य स्थापित कर अपनी राजधानी बनाई।[3]

गेलरीसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "पाटलिपुत्र स्टेशन एलिवेटेड रोड के बीच 1.5 किमी तक 3 लेन बनेगी सड़क". मूल से 29 दिसंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 मई 2017.
  2. "A relic of Mauryan era". मूल से 27 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 मई 2017.
  3. "शेरशाह सूरी ने हुमायूं से बगावत कर 'पाटलिपुत्र' को गंगा किनारे बसाया". मूल से 9 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 मई 2017.