पैरी महानदी की सहायक नदी है। पैरी गरियाबंद जिले की बिन्द्रानवागढ़ जमींदारी में स्थित भाठीगढ़ (मैनपुुुर) की पहाड़ी से निकलती है। उसके बाद उत्तर-पूर्व दिशा की ओर करीब ९६ कि॰मी॰ बहती हुई राजिम क्षेत्र में महानदी से मिलती है। पैरी नदी धमतरी और राजिम को विभाजित करती है। पैरी नदी के तट पर स्थित है राजीवलोचन मंदिर। राजिम में महानदी और सोंढुर नदियों का त्रिवेणी संगम-स्थल भी है। इसकी लम्बाई 90 किलोमीटर है तथा प्रवाह क्षेत्र 3,000 वर्ग मीटर है।[1]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "छत्तीसगढ़ में नदियाँ". छत्तीसगढ़ कल्चर. मूल (एचटीएमएल) से 14 नवंबर 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि ११ अगस्त 2008. |access-date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)