फ़ख़रुद्दीन अली अहमद

भारत के पांचवे राष्ट्रपति और भारतीय राजनेता थे।

फ़ख़रुद्दीन अली अहमद (3 मई 1905 - 11 फरवरी 1977) भारत के पांचवे राष्ट्रपति थे। 1925 में नेहरू से इंग्लैन्ड में मुलाकात के बाद वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए। उन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लिया। वे 24 अगस्त 1974 से लेकर 11 फरवरी 1977 तक राष्ट्रपति रहे।

Fakhruddin Ali Ahmed 1977 stamp of India.jpg

प्रारंभिक जीवनसंपादित करें

फ़ख़रुद्दीन अहमद के दादा खालिलुद्दिन अली अहमद असम के कचारीघाट (गोलाघाट के पास) से थे।[1] अहमद का जन्म 13 मई 1905 को दिल्ली में हुआ। उनके पिता कर्नल ज़लनूर अली थे।जो कि एक अंसार जाती के थे और उनकी मां दिल्ली के लोहारी के नवाब की बेटी थीं।[2]

अहमद को गोंडा जिल ले के सरकारी हाई-स्कूल और दिल्ली सरकारी हाई-स्कूल में शिक्षित किया गया। उच्च शिक्षा के लिए वे 1923 में इंग्लैंड गए, जहां उन्होंनें सेंट कैथरीन कॉलेज, कैम्ब्रिज में अध्ययन किया। 1928 में उन्होंने लाहौर उच्च न्यायालय में कानूनी अभ्यास आरंभ किया।[2]

स्वतंत्रता आंदोलन के दौरानसंपादित करें

फ़ख़रुद्दीन अली अहमद १९३१ में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से जुड़ गए। जवाहर लाल नेहरू के सुझाव पर वह मुस्लिम आरक्षित सीट पर चुनाव लड़े और जीते।[3] 1938 में बारदोली के नेतृत्व उन्हें वित्तमंत्री भी बनाया गया।1940 में सत्याग्रह आंदोलन एवं 1942 में भारत छोडो आंदोलन के समर्थन की वजह से जेल गए। उन्होंने तीन साल से ज्यादा समय जेल में बिताया।[4]

राजनीतिक जीवनसंपादित करें

1952 में असम से राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुए।  इसके बाद 1957 से 1967 तक असम में विधायक रहे। 1971 से दोबारा केंद्रीय राजनीती में आये और कई मंत्रालय संभाले। राष्ट्रपति पद के लिए नामित होने से पहले वह खाद्य एवं कृषि मंत्री के रूप में कार्यरत थे। 1974 में प्रधानमंत्री इन्दिरा गान्धी ने अहमद को राष्ट्रपति पद के लिए चुना और वे भारत के दूसरे मुस्लिम राष्ट्रपति बन गए। इन्दिरा गान्धी के कहने पर उन्होंने 1975 में अपने संवैधानिक अधिकार का इस्तेमाल किया और आंतरिक आपातकाल की घोषणा कर दी।

निधनसंपादित करें

11 फरवरी 1977 (उम्र:72) में हृदयगति रुक जाने से अहमद का कार्यालय में निधन हो गया।

सूत्रसंपादित करें

  1. "indiapicks.com". मूल से 18 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 मार्च 2011.
  2. "indohistory.com". मूल से 23 नवंबर 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 मार्च 2011.
  3. JAI, JANAK RAJ. BHARTIYA LOKTANTRA OR HAMARE RASHTRAPATI. Kitabghar Prakashan. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-88121-85-4.
  4. Kumar, Rajendra (2015-01-01). Bharat Ke Rashtrapati Va Pradhanmantri. Prabhat Prakashan. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-93-5048-424-1.