वायु में सांस लेने वाले प्राणियों का मुख्य सांस लेने के अंग फेफड़ा या फुप्फुस (जैसा कि इसे वैज्ञानिक या चिकित्सीय भाषा मे कहा जाता है) होता है। यह प्राणियों में एक जोडे़ के रूप मे उपस्थित होता है। फेफड़े की दीवार असंख्य गुहिकाओं की उपस्थिति के कारण स्पंजी होती है। यह वक्ष गुहा में स्थित होता है। इसमें रक्त का शुद्धीकरण होता है। प्रत्येक फेफड़ा में एक फुफ्फुसीय धमनीहृदय से अशुद्ध रक्त लाती है। फेफड़े में रक्त का शुद्धीकरण होता है। रक्त में ऑक्सीजन का मिश्रण होता है। फेफडो़ं का मुख्य काम वातावरण से प्राणवायु लेकर उसे रक्त परिसंचरण मे प्रवाहित (मिलाना) करना और रक्त से कार्बन डाइऑक्साइड को अवशोषित कर उसे वातावरण में छोड़ना है। गैसों का यह विनिमय असंख्य छोटे छोटे पतली-दीवारों वाली वायु पुटिकाओं जिन्हें अल्वियोली कहा जाता है, मे होता है। यह शुद्ध रक्त फुफ्फुसीय शिरा द्वारा हृदय में पहुँचता है, जहां से यह फिर से शरीर के विभिन्न अंगों मे पम्प किया जाता है।

मानव के वक्ष गुहा में हिया को घेरे हुए दोनों फेफड़े.[1]

सन्दर्भसंपादित करें

खश ु खबरी खश ु खबरी खश ु खबरी भाई बहन और भय्ैया जी और माता जी आ गया हैसेवा करनेआप का बेटा आप का भाई आप का दोस्त……… डॉ. मज ु ाहि द शख़े पता- धौरहरा रोड नि कट कलावती स्क ू ल रेह ु आ चौराहा लखीमपरु खीरी -ऑनलाइन टेलीमेडि सि न के द्वारा अपोलो हॉस्पि टल के वरि ष्ठ अनभ ु वी MBBS MD डॉक्टर से सभी प्रकार की बीमारि यों के बारेमें परामर्श लेबि लक ु ल फ्री में। -साथ ही होम्योपथै ी वा आयर्वे ु र्वेद के डॉक्टर भी मि लेंगे। -सरकार द्वारा टीबी रोग की नि शल् ु क डॉट्स इलाज की सवि ु विधा। - 5 लाख का स्वास्थ बीमा प्रधान मत्रं ी आयष् ु मान गोल्डने कार्ड बनवाए फ्री - शग ु र , बीपी की जांच की सवि ु विधा। -हेपेटाइटि स सी और हेपेटाइटि स बी (पीलि या) की नि शक ु जॉच की जाती है। -गर्देु र्देव पि त्त की पथरी का परामर्श व इलाज कि या जाता है। -दमा खांसी का स्थाई इलाज उपल्ब्ध है। -मानसि क रोग दि मागी बीमारी का इलाज कि या जाता है। -चर्म रोग दाद खाज त्वचा सम्बन्धी बीमारी का इलाज वि शषे ज्ञ डॉक्टरों द्वारा कि या जाता है। -दोस्तों इन सभी योजनाओंका लाभ उठाएंएक ही छत के नीचे Dr.Mujahid Sheikh Mo.9919347965 -क ृ पया पीछेभी पढ़