बहुराष्ट्रिय कंपनियाँ/निगम वह संगठन होते हैं जो अपने देश की तुलना मे एक या एक से अधिक देशों में वस्तुओं या सेवाओं के उत्पादन को नियंत्रित करते हैं। इसे अंतर्राष्ट्रीय निगम या एक राज्यविहीन कम्पनी भी कहा जाता है हैं। बहुराष्ट्रिय कंपनियों की अपने देश के अलावा कम से कम एक अन्य देश में सेवाएं और अन्य संपत्ति होती हैं। ऐसी कंपनियों के विभिन्न देशों में कार्यालय और कारखानें होते हैं और आमतौर पर एक केंद्रीकृत प्रधान कार्यालय होता हैं जहाँ पर वे वैश्विक प्रबंधन की वयवस्था करते हैं।

सबसे बड़ी बहुराष्ट्रीय कंपनियों का चार्ट

अवलोकनसंपादित करें

एक बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ आम तौर पर एक बड़ी कंपनी हैं जो उत्पादन या विभिन्न देशों में वस्तुओं या सेवाओं बेचता हैं।

१)आयात और माल और सेवाओं का निर्यात

२)एक विदेशी देश में महत्वपूर्ण निवेश करना

३)विदेशी बाज़ारों में लाइसेंस खरीदना और बेचना

४)अनुबंध विनिर्माण में उलझना-एक स्थानीय निर्माता को एक विदेशी देश में अपने उत्पादों का उत्पादन करने के लिये अनुमति देना

५)विदेशी देशों में विनिर्माण सुविधाओं या विधानसभा ऑपरेशन खोलना।

विशेषताएँ,फायदें और नुकसान मेजबान देश के दृष्तिकोण सेसंपादित करें

विशेषताएँसंपादित करें

१)विशाल आस्तियों और कारोबार-एक वैश्विक आधार पर कार्रवाई की वजह से, बहुराष्ट्रीय कंपनियों के विशाल भौतिक और वित्तीय संपत्ति हैं। यह बहुराष्ट्रीय कंपनियों के भारी कारोबार(बिक्री) में यह परिणाम होता हैं। वास्तव में, संपत्ति और कारोबार के मामले में, कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों के कई देशों के राष्ट्रिय अर्थव्यवस्थाओं की तुलना में बड़ा हैं।

२)शाखाओं के नेटवर्क के माध्यम से अंतरराष्ट्रीय संचालन-बहुराष्ट्रीय कंपनियों के कई देशों में उत्पादन और विपणन कार्य किया हैं; मेजबान देशों में शाखाएं, सहायक और सहयोगी कंपनियों के नेटवर्क के माध्यम से संचालन कर रहा हैं।

३)उत्पादों की बेहतर गुणवत्ता-एक बहुराष्ट्रीय कंपनी को विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धा करना पड़ता हैं, इसी वजह से उसे अपने उत्पादों की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देना पड़ता हैं।

४)नियंत्रण की एकता-बहुराष्ट्रीय कंपनियों के नियंत्रण की एकता की विशेषता हैं। बहुराष्ट्रीय कंपनियों के मुख्य घर देश में स्थित कार्यालय के माध्यम से विदेशों में अपनी शाखाओं की व्यावसायिक गतिविधियों को नियंत्रित करता हैं।

५)ताकतवर आर्थिक शक्ति-बहुराष्ट्रीय कंपनियों शक्तिशाली आर्थिक संस्थाओं हैं। वे मेजबान देशों में लगातार विलय और कंपनियों के अधिग्रहण के माध्यम से अपनी आर्थिक शक्ति को जोड़ने पर लगे हुए हैं।

फायदेंसंपादित करें

१)रोज़गार सृजन-बहुराष्ट्रीय कंपनियों के मेजबान देशों में बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर पैदा करते हैं। यह देशों के लिये बहुराष्ट्रीय कंपनियों का एक बड़ा लाभ हैं, जहाँ बेरोजगारी ज्यादा होता हैं।

२)बेकार संसाधनों के समुचित उपयोग-अपने उन्नत तकनीकी ग्यान की वजह से, बहुराष्ट्रीय कंपनियों की स्थिति में ठीक में मेजबान देश के निष्क्रिय भौतिक और मानव संसाधनों का उपयोग कर रहे हैं।यह मेजबान देश की राष्ट्रीय आय में वृद्धि का परिणाम हैं।

३)भुगतान स्थिती के संतुलन में सुधार-बहुराष्ट्रीय कंपनियों के मेजबान देशों ने अपने निर्यात को बढ़ाने के लिये मदद करते हैं। जैसे, वे मेजबान देश भुगतान की स्थिती की अपनी बैलेंस पर सुधार करने के लिये मदद करते हैं।

४)जिवन स्तर में सुधार-सुपर गुणवत्ता वाले उत्पादों और सेवाओं को उपलब्द कराने के द्वारा, बहुराष्ट्रीय कंपनियों के मेजबान देशों के लोगों के जीवन स्तर में सुधार के लिये मदद करता हैं।

५)अंतरराष्ट्रीय भाईचारे और संस्कृति के संवर्धन-बहुराष्ट्रीय कंपनियां दुनिया की अर्थवव्यवस्था के साथ विभिन्न देशों की अर्थव्यवस्थाओं को एकीकृत करता हैं।

===नुकसान=== १)गरीब लोगों का कोई लाभ नहीं-बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ वहीं चीजों का उत्पादन करता हैं, जो अमिर लोग उपयोग कर सकते हैं, इसी वजह से मेजबान देशों के गरीब लोगों को इससे कोई लाभ नहीं मिलता हैं। === नुकसान === 1) गरीब लोकांसाठी कोणतेही फायदे - बहुराष्ट्रीय कंपन्यांनी ज्या गोष्टींचा उपयोग केला आहे तेच लोक बनवतात, यामुळे या गरीब लोकांना यातून काही फायदा होत नाही. २)आज़ादी के लिये खतरा-मेजबान देश के राजनीतिक मामलों में हस्तक्षेप शुरु करने के कारण उन्हें मेजबान देश की स्वंत्रता के लिये एक अंतर्निहित खतरें, लंबे समय तक होता हैं। 2) स्वातंत्र्याच्या धोक्यामुळे - यजमान देशाच्या राजकीय प्रकरणांमध्ये हस्तक्षेप सुरू झाल्यापासून, त्यांच्याकडे बर्याच काळापासून होस्ट देशाच्या स्वातंत्र्यासाठी निहित धोका आहे. ३)मुनाफे का प्रत्यावर्तन-बहुराष्ट्रीय कंपनियां भारी मुनाफा कमाते हैं। 3) नफा परत मिळवणे- बहुराष्ट्रीय कंपन्या मोठ्या नफ्यात कमावतात. बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा लाभ का प्रत्यावर्तन प्रतिकूल मेजबान देश का विदेशी मुद्रा भंडार को प्रभावित करता हैं; बहुराष्ट्रीय कंपन्यांनी नफा परत मिळविल्यास शत्रुत्वाच्या यजमान देशांतील परकीय चलन रिझर्व्हवर परिणाम होतो; जिसका मतलब हैं कि विदेशी मुद्रा की एक बड़ी राशि मेजबान देश के बाहर चला जाता हैँ। याचा अर्थ होस्ट देशामधून मोठ्या प्रमाणावर परकीय चलन निघाले आहे.

बहुराष्ट्रीय कंपनियों की सूचीसंपादित करें

एयरबस समूह

बीआईसी

कोको कोला

डेलॉयट

 
डेलॉयट का प्रतीक चिन्ह

होंडा

एचटीसी

लेनोवो

एलजी

नेस्ले

विप्रो

सन्दर्भसंपादित करें