बॉयल का नियम

स्थिर ताप पर किसी गैस के निश्चित मात्रा का आयतन उसके दाब के व्युत्कमानुपति होती है।

बॉयल का नियम आदर्श गैस का दाब और आयतन में सम्बंध बताता है। इसके अनुसार, नियत ताप पर गैस का आयतन दाब के व्यूत्क्रमानुपाती होता है।

बॉयल के नियम का चलित प्रaदर्शन (एनिमेशन)

गणित में इसे निम्नलिखित रूप में अभिव्यक्त कर सकते हैं=-

या,

जहाँ P गैस का दाब है , V गैस का आयतन है, और k एक नियतांक है।

इसी को इस तरह से भी कह सकते हैं-

इन्हें भी देखेंसंपादित करें